भाभी बोली तुम मेरे पति बन जाओ

Hindi sexy story, hot sex chat: मै शादी मे जयपुर गया हुआ था तो जयपुर में मेरी मुलाकात ऊषा भाभी से हुई हालांकि मैं भी शादीशुदा हूं लेकिन ऊषा भाभी से जब मैं पहली बार मिला तो मुझे उनसे मिलकर बहुत अच्छा लगा उनका गोरा बदन मुझे अपनी ओर आकर्षित कर रहा था। जिस प्रकार का उनका बदन है उससे मैं बहुत ही ज्यादा आकर्षित हो रहा था मुझे तो लग रहा था कि मैं उन्हें वही लेटा कर चोदना शुरू कर दूं। मैंने शादी के दौरान उनको देखकर मुठ भी मारी थी उनकी बड़ी गांड की कल्पना से आज भी मुझे बहुत अच्छा लगता है लेकिन मेरी उनसे बात नहीं हो पाई थी। उन से मेरा परिचय मेरे भैया ने करवाया था क्योंकि वह मेरे भैया के पड़ोस में रहती हैं अब हम लोग लखनऊ वापस लौट आए थे लेकिन वापस लौट आने के बाद मुझे उनसे बात करनी थी और किसी भी सूरत में मैं उनसे बात करना चाहता था। मैंने जब ऊषा भाभी को फेसबुक पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी तो उन्होंने मेरी फ्रेंड रिक्वेस्ट को तुरंत एक्सेप्ट कर लिया। मुझे बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी कि वह मेरी फ्रेंड रिक्वेस्ट को एक्सेप्ट भी कर लेंगी लेकिन अब वह मेरी फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर चुकी थी। मैं और वह एक दूसरे के लिए बहुत ज्यादा तडपने लगे थे हम दोनों को बहुत ही अच्छा लगता जब हम दोनों एक दूसरे से फोन पर बातें किया करते। अब मुझे भी लगने लगा था कि वह मेरे लिए पूरी तरीके से पागल होने लगी है एक दिन तो उन्होंने मुझे फोन कर के कहा कि तुम मेरे पास आ जाओ उनके और उनके पति के बीच कुछ ठीक नहीं चल रहा था वह मुझे अपने पास बुलाना चाहती थी। वह मेरी बात से बड़ी खुशी रहती थी और हमेशा कहती तुम बड़े समझदार हो यदि तुम मेरे पति होते तो कितना अच्छा होता अब हम दोनों की बातें होने लगी थी और एक दिन मेरे और उनके बीच बातें हो रही थी तो उनकी चूत से पानी बाहर निकल आया था।

मैंभाभी मैं आपके फोन का इंतजार कर रहा था मैं सोच रहा था कि कब आपका फोन आएगा तब आपसे मैं बात करूंगा वैसे आज आपसे बात करके मुझे बड़ा ही अच्छा लग रहा है और कल हम लोगों की बात हो नहीं पाई थी। मैं सोच रहा था आपको फोन करूं लेकिन फिर मुझे लगा कहीं आपके पति घर पर ना हो इसलिए मैंने आपको फोन नहीं किया और आज मेरी पत्नी भी मायके गई हुई है।

भाभीमैं भी आज घर पर अकेली हूं मेरा मेरे पति के साथ आज झगड़ा हो गया जिससे नाराज होकर वह अपने दोस्त के साथ कहीं चले गए अब ना जाने वह कब तक वहां से वापस लौटेंगे इसलिए मैं तुमसे आज खुलकर बातें करना चाहती हूं। जब भी तुमसे मैं बातें करती हूं मुझे बहुत ही हल्का महसूस होता है ऐसा लगता है जैसे कि मेरी जिंदगी में तुम बहुत ही महत्वपूर्ण हो मैं तुमसे बात कर के बहुत खुश हो जाती हूं वैसे वाकई में तुम बहुत ही अच्छी हो जब भी मेरी तुमसे बात होती है तो मुझे लगता है तुमसे मेरी शादी होनी चाहिए थी।

मैंभाभी जी कई बार हम सोचते हैं वह होता नहीं है और मेरे साथ भी ऐसा हुआ है मैंने भी कॉलेज में एक लड़की से प्यार किया था लेकिन उससे मेरी शादी हो नहीं पाई और मेरी शादी मेरे परिवार वालों ने कहीं और ही करवा दी मैं अपने परिवार वालों के कहने पर शादी के लिए तैयार हो गया और अब मेरी शादी हो जाने के बाद मैं अपनी पत्नी के साथ अच्छी जिंदगी बिता रहा हूं।

भाभीलेकिन मैं अपनी शादीशुदा जिंदगी से बिल्कुल भी खुश नहीं हूं और मुझे लगता है मुझे अपने पति को तलाक देना चाहिए मैं उन्हें अपने बदन को सौप चुकी हूं लेकिन उसके बावजूद भी उन्होंने मुझे कभी भी वह सुख नहीं दिया जिसकी की मै हकदार थी वह हमेशा ही मुझमे कोई ना कोई कमी निकालते हैं जब भी उनके दोस्त घर पर आते हैं तो उनके सामने मुझे बहुत ही बुरा महसूस करवाते हैं इसलिए मुझे उनसे बात करना बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगता।

मैंभाभी यह बात छोड़िए आप यह बताइए कि आज आपने क्या पहना हुआ है? मैं चाहता हूं कि आज हम दोनों अपनी रात को रंगीन बनाए और मुझे आपसे आज गरमा गरम बातें करनी है।

भाभीमैं तो तुम्हारी हूं जब तुम्हें बात करने का मन हो तो तुम मुझसे बात कर लिया करो आज मैंने लाल रंग की नाइटी पहनी हुई है अगर तुम कहो तो मैं अपने नाइटी उतार देती हूं।

मैंमैं भी बहुत ज्यादा तड़प रहा हूं और मुझे लग रहा है कि मैं जैसे आपके अंदर की गर्मी को पूरी तरीके से बढ़ा दू। मैंने अपने लंड को हिलाना शुरू कर दिया है जब मैं अपने लंड को हिला रहा हूं तो मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा है ऐसा लग रहा है जैसे आप मेरे पास ही हो और मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर चूस रही हो।

भाभीमुझे भी ऐसा ही लग रहा है मैं तुम्हारे लंड क बस चूसती ही जाऊं फिलहाल मैंने अपनी पैंटी को उतार कर अपनी चूत के अंदर उंगली को डालना शुरू कर दिया है मुझे बहुत ही आनंद आ रहा है। जब मेरे पति अपनी उंगली को मेरी योनि के अंदर डालते है तो वह हमेशा उसके बाद ही मेरी चूत मारा करते हैं। मैं तुम्हारे लिए बहुत ज्यादा तड़प रही हूं क्या तुम मुझसे मिलने के लिए आ सकते हो।

मैंहां भाभी मैं आपको मिलने के लिए जरूर आ सकता हूं लेकिन फिलहाल तो अभी आप मेरी गर्मी को बढ़ाते ही जाओ। आप मुझे पूरी तरीके से संतुष्ट कर दीजिए मैं चाहता हूं कि जल्दी ही मैं अपने माल को गिराकर अपनी आग को पूरा कर सकूं और अपने अंदर की गर्मी को मैं जल्द ही शांत कर सकूं। मैं आपकी चूत मार कर अभी आपकी इच्छा को पूरा कर देता हूं वैसे मैंने अपने लंड को हिलाना शुरू कर दिया है मुझे लग रहा है कि कहीं मेरा माल बाहर ना आ जाए आप अपने पैरों को चौड़ा कर लीजिए जिससे कि मुझे भी मजा आ सके और आपको भी पूरे तरीके से मजा आ सके।

भाभीमैने अपने पैरों को चौड़ा कर लिया है तुम अपने लंड को मेरी चूत में घुसा दो और मुझे चोदना शुरु करो मेरी चूत अब ज्यादा तड़पने लगी है मैं अपनी चूत के अंदर उंगली को डाल लिया है और ऐसा लग रहा है जैसे कि मैं अपनी उंगली को अंदर बाहर करती रहू और अपने अंदर की आग को बढ़ती जाऊ।

मैंभाभी मैंने आपकी चूत के अंदर लंड को करना शुरू कर दिया है और मुझे बहुत अच्छा लग रहा है अब मुझे बहुत आनंद आ रहा है मुझे ऐसा लग रहा है जैसे कि आप मेरे नीचे लेटी हो और मैं आपको पूरी ताकत के साथ चोद रहा हूं मेरे अंदर की आग पूरी तरीके से बढ़ने लगी आपने मेरे अंदर की उत्तेजना को बहुत ज्यादा बढ़ा दिया है अब मेरा माल बाहर आने वाला है और मैं आपसे ज्यादा देर तक चोद नहीं पाऊंगा लेकिन फिर भी आज आपने मुझे पूरी तरीके से खुश कर रख दिया है।

भाभीअगर ऐसी बात है तो मैं भी आज पूरी तरीके से खुश हो चुकी हूं क्योंकि तुमने जिस प्रकार से मुझे खुश किया है उससे मेरे अंदर की गर्मी बहुत ही ज्यादा बढ़ चुकी है और मैं बहुत ज्यादा खुश हो चुकी हूं। मेरी चूत से भी अब पानी बहुत ज्यादा बाहर आने लगा है मैं अपने आपको ज्यादा देर तक नहीं रोक पाऊंगी मैंने अपने पैरों को चौडा कर लिया है और तुम्हें मुझे तेजी से चोदना है।

मैंमैंने अपने माल को बाहर गिरा दिया है आज आपसे बात करके बहुत अच्छा लगा आपने तो मेरे बदन को पूरी तरीके से गर्म करके रख दिया है और मुझे ऐसा लग रहा है जैसे कि मेरा बदन पूरी तरीके से थक कर चूर हो चुका है मैं जल्दी सो जाऊंगा।

हम दोनों ने उस दिन काफी देर तक बात की फोन पर हम लोगों ने उसके बाद भी 2 घंटे तक बात की लेकिन मुझे पता नहीं कब नींद आ गई कुछ मालूम ही नहीं पड़ा लेकिन जब भी मैं भाभी से बात किया करता तो मुझे बहुत ही अच्छा लगता और वह भी मुझसे बात कर के हमेशा खुश रहती वह जब भी मुझसे बात करती तो मैं उनकी गर्मी को पूरी तरीके से बढ़ा दिया करता और उनके बदन की आग को मैं झट से मिटा दिया करता।

Tags: , , ,
error: