शदी के बाद भी मेरे लिए तडपती रही

Hindi sex chat, desi sex talk:  मैं और महिमा एक दूसरे से प्यार किया करते थे लेकिन किसी कारण से हम दोनों की शादी ना हो सकी। मेरा परिवार बहुत ही गरीब था और महिमा का परिवार अमीर परिवार है और वह लोग काफी पैसे वाले हैं इसीलिए महिमा के पापा मुझसे महिमा की शादी नहीं कराना चाहते थे लेकिन महिमा मुझसे प्यार करती थी। महिमा आज बेशक मुझसे बहुत दूर हो लेकिन उसके बावजूद भी हम लोग एक दूसरे से फोन पर हमेशा ही संपर्क में रहे महिमा की शादी हो जाने के बाद मुझे बहुत दुख हुआ था। मैं काफी समय तक किसी से भी संपर्क में नहीं था लेकिन मेरे दोस्तों ने मुझे समझाया और कहा तुम्हें इस से निकलना पड़ेगा मुझे भी लगने लगा था कि मेरे ऊपर मेरे परिवार की जिम्मेदारी भी हैं और मुझे उन जिम्मेदारियों से भागना नहीं चाहिए बल्कि उन परेशानी का मुझे सामना करना चाहिए इसलिए मैंने यह सब भूलकर आगे बढ़ने का फैसला किया। मुझे पूरी उम्मीद थी कि मैं जल्द ही अपने जीवन में भी तरक्की हासिल कर लूंगा मैंने अपने जीवन में बहुत जल्द तरक्की हासिल कर ली और मुझे इस बात की खुशी हुई थी कि यह सब कुछ इतना आसान तो नहीं था लेकिन उसके बावजूद भी मेरी मेहनत रंग लाई और मैं एक कंपनी में अच्छे पद पर कार्यरत हूं। मेरी बात महिमा से करीब 6 महीने से नहीं हो पाई लेकिन जब महिमा का कुछ दिनों पहले फोन आया तो उसने मुझे कहा तुमने तो मुझे फोन करना ही बंद कर दिया है। मैंने उसे बताया मेरे पास समय नहीं होता है इसलिए मैं तुम्हें फोन नहीं कर पाता महिमा मुझसे नाराज हो गई और उसके बाद मैंने उसे कई बार फोन किया परंतु उसने मेरा फोन नहीं उठाया मुझे भी लगने लगा शायद मुझे महिमा को मनाना चाहिए मुझे महिमा से दोबारा फोन पर बात करनी चाहिए इसलिए मैंने महिमा को उसके बाद भी कई बार फोन किया तब जाकर महिमा ने मेरा फोन उठाया और हम लोगों की बातें हो पाई महिमा ने फोन उठाया तो मैंने उसे बहुत देर तक बात की।

मैं- महिमा तुम तो मेरा फोन ही नहीं उठा रही थी मैं कब से तुम्हारा फोन ट्राई कर रहा हूं तुम मेरा फोन काटे जा रही हो?

महिमा- मुझे तुमसे बात ही नहीं करनी है मैंने तुम्हारा फोन तो उठा ही लिया क्योंकि मैं तुमसे अभी भी प्यार करती हूं और तुम मुझसे कभी प्यार करते ही नहीं थे इसीलिए तो मैने तुम्हे कहा था मुझे तुम घर से भगा कर ले जाओ अगर तुमने ऐसा किया होता तो शायद आज हम दोनों पति पत्नी होते और इस तरह से फोन पर छुपके हम लोग बात नहीं करते।

मैं- महिमा मुझे माफ कर दो देखो मैं तुमसे इसलिए बात नहीं कर पाया क्योंकि मैं बहुत ज्यादा बिजी हो गया था मैं सोच रहा था कि तुम्हें फुर्सत में फोन करूंगा लेकिन कुछ पता ही नहीं चल पाया समय कब बीत गया और तुमसे मेरी बात हो नहीं पाई इसके लिए मैं तुमसे माफी मांगता हूं।

महिमा- ठीक है बाबा यह सब छोड़ो बेकार में तुम इस प्रकार की बहानेबाजी मुझसे ना बनाया करो अब आगे बात करो मुझे तुमसे कुछ बात करनी थी इतने समय से मैं तुम्हारे लिए तड़प रही हूं और तुम हो कि फोन ही नहीं करते हो तुमने तो मुझे जैसा फोन करना ही बंद कर दिया था।

मैं- महिमा आज के बाद तुम्हें कभी भी शिकायत का मौका नहीं मिलेगा और हमेशा तुमसे बात करने की मैं कोशिश करूंगा मुझे माफ कर दो आगे से कभी भी मैं ऐसी गलती नहीं करूंगा। महिमा अच्छा मुझे यह बताओ तुम्हारे पति कहां है? तुमने कुछ समय पहले बताया था कि तुम्हारे पति का किसी भाभी के साथ चक्कर चल रहा है। वह बहुत ही ज्यादा तुमसे गुस्सा रहते हैं और तुम्हें बिल्कुल वह समय नहीं दे पाते।

महिमा- हां मेरे पति आजकल किसी और के साथ ही अपना चक्कर चला रहे हैं वह उस से बात करते रहते हैं मुझे तो वह देखते भी नहीं है। मेरी तरफ उन्होने ना जाने कब से नहीं देखा है मेरी चूत कितनी मचल रही है और मैं सोच रही हूं तुम मेरे पास आ जाओ और मुझे चोदो।

मैं- मुझे भी ऐसा ही लग रहा है मुझे तुम्हारे पास जल्दी आना पड़ेगा और तुम्हारी चूत मारकर मुझे अपना बनाना पड़ेगा क्योंकि मेरा लंड भी कई दिनों से किसी की चूत में घुसा नहीं है। तुम्हें याद है जब पहली बार मैंने तुम्हारी सील तोड़ी थी और तुम किस प्रकार से रोते हुए अपने घर गई थी उसके बाद तुमने मुझे फोन किया था और कहा था कि मेरी चूत से अभी तक खून आ रहा है कहीं मैं प्रेग्नेंट तो नहीं हो जाऊंगी और तुम बहुत ज्यादा डर गई थी।

महिमा- उस वक्त हम कॉलेज में ही थे और मुझे इन सब चीजों के बारे में वाकई में नहीं पता था लेकिन आज तो मेरी चूत तुम्हारे मोटे लंड को लेने के लिए तड़प रही है मुझे तो कई बार लगता है कि अपने घर के नौकर का लंड अपनी चूत में ले लू लेकिन मैं ऐसा नहीं कर सकती एक तुम हो फोन ही नहीं करते और मुझसे इतनी दूरी बनाने की कोशिश करते हो।

मैं- ठीक है बाबा आज के बाद तुम से कभी भी दूरी नहीं बनाऊंगा मेरा लंड तुम्हारे लिए तड़प रहा है। मैंने अपने लंड को बाहर निकाल लिया है और उसे मै हिला रहा हूं मुझे बहुत अच्छा लग रहा है जब तुम मुझसे इस प्रकार की बातें कर रही हो। तुम मेरे लंड को अपनी चूत के अंदर लोगी या पहले मुंह के अंदर लोगी?

महिमा- मैं तुम्हारे लंड को पहले अपने मुंह में लेना चाहती हूं बहुत दिनों से मैंने किसी के लंड को अपने मुंह के अंदर भी नहीं लिया है और मैं तड़प रही हूं तुम्हारा लंड मेरे मुंह में जाएगा तो मैं अच्छी तरीके से सकिंग करूगी और उसे पूरा गीला बना दूंगी ताकि वह मेरी चूत के अंदर आसानी से जा सके और मेरी चूत मार सको।

मैं- महिमा मुझे बहुत अच्छा लग रहा है मुझे ऐसा लग रहा है तुम्हारे मुंह के अंदर मेरा लंड तुम लेती हो तो मेरा लंड भी तन कर खड़ा हो जाता है और  इतना मोटा हो जाता है कि मुझे तो किसी की चूत में चला जाए।

महिमा- बहुत अच्छा लग रहा है तुम्हारे लंड को जिस प्रकार से मै चूस रही हू तुम्हारे लंड को मैं जैसे गले के अंदर ले रही हूं उस से मैं बहुत ज्यादा खुश हूं और मेरी चूत से लगातार पानी बाहर की तरफ निकल रहा है तुम जल्दी से अपने लंड को मेरी चूत के अंदर डाल दो मेरी चूत की गर्मी को तुम मिटा दो।

मैं- लो तुम्हारी चूत के अंदर लंड को डाल दिया तुम्हारी चूत के अंदर अपने लंड को डालने में मजा आ रहा है और तुम्हारे स्तनों को तो दबाने में मुझे और भी मजा आ रहा है तुम्हारे स्तन कितने ज्यादा सुडौल है। जिस प्रकार से तुम्हारे स्तनों को मैं दबा रहा हूं और तुम्हारी चूत मार रहा हूं उससे मुझे वह पुराने दिन याद आ गए जो मजे में तुम्हारे साथ लिया करता था और तुम्हारी चूत का मैंने कई बार भोसड़ा बनाया था।

महिमा- पुरानी यादों को मेरे सामने मत ताजा किया करो क्योंकि मैं बहुत ज्यादा तड़पती हू और मुझे लगता है कि काश तुम मेरे पास होती तो आज मेरी चूत की खुजली को मिटा देते लेकिन तुमने सब कुछ गलत किया और मुझे दूसरे के साथ शादी करने के लिए मजबूर कर दिया परंतु मैं आज तक नहीं समझ पाई कि तुमने ऐसा क्यों कहा था?

मैं- फिलहाल तो तुम्हें धक्के मारने में मजा आ रहा है और तुम्हारी चूत से जो गर्म पानी बाहर निकाल रहा है उससे मेरा लंड पूरी तरीके से तुम्हारी चूत के अंदर बाहर हो रहा है और मेरा वीर्य भी बाहर की तरफ गिरने वाला है मैं अपने वीर्य को तुम्हारी चूत के अंदर गिरा रहा हूं।

महिमा- अपने वीर्य को मेरी चूत के अंदर की गिरा दो मैंने अपने दोनों पैरों से तुम्हें जकड लिया है तुम जल्दी से अपने वीर्य को मेरी चूत के अंदर गिरा कर मेरी खुजली को मिटा दो।

मैं- मुझे आज मजा आ गया जिस प्रकार से तुम से मेरी बात हुई और आगे से मैं कभी भी तुम्हें इतना नहीं तडपाऊंगा तुमसे हमेशा बात करता रहूंगा। मुझे भी मालूम है कि तुम मेरे लिए कितना तड़पती हो और तुम मुझसे कितना प्यार करती हो मुझे तुमसे ही प्यार है और तुमसे हमेशा ही मैं प्यार करता रहूंगा।

महिमा- मैं भी तो तुमसे बहुत प्यार करती हूं और तुम्हें तो पता ही है कि तुम्हारे लिए मैं कितनी ज्यादा तडपती हूं और तुम्हारे लंड को लेने के लिए मैं कितना ज्यादा उत्सुक रहती हूं। जब भी मेरी चूत के अंदर तुम अपने लंड को घुसाते हो तो मैं खुश हो जाती हूं मुझे मेरे पति से तो कोई उम्मीद नहीं है क्योंकि वह फिलहाल किसी और महिला के साथ ही अपना लव अफेयर चला रहा हैं और मुझे उनसे इस बात के लिए भी कोई आपत्ति नहीं है।

Tags: , , ,
error: