सेक्सी बाते शबनम संग

indian sex chat, desi kahani फेसबुक पर मेरे दोस्त की बहन ने तहलका मचा रखा था वह फेसबुक पर अपनी एक फोटो डालती तो उसकी फोटो पर पता नहीं कितने लाइक आ जाते। लाइक तो सिर्फ लड़कों का बहाना था लड़के तो उसके हुस्न को निहारा करते। शबनम वाकई में बड़ी लाजवाब है उसके बदन का हर एक हिस्सा ऐसा था जैसे कि कोई परी हो। मैंने भी कई बार उसके नाम की मुठ मारी थी लेकिन मुझे नहीं मालूम था कि मेरी बात शबनम से हो जाएगी और हम दोनों के बीच में फोन सेक्स होगा। मेरी शबनम से कभी बात नहीं हुई थी सिर्फ हम लोग एक दूसरे को देखा करते थे। वह फेसबुक पर मेरे साथ जुड़ी हुई थी शायद उसे मेरी किस्मत ही कहेंगे जो उसने मुझे फोन सेक्स करने के लिए चुना।

मेरे साथ उसने फोन सेक्स के मजे लिए शबनम मुझे जब भी दिखती तो वह बड़ी इतरा के चलती उसका इतराना मैं समझ चुका था कि वह क्यों इतराती है। वह मेरे हाथ नहीं आना चाहती थी इसलिए मैंने उसे फेसबुक पर मैसेज कर ही दिया जब उसका रिप्लाई मुझे आया तो मैं खुश हो गया। मैंने उससे उस रात काफी देर तक बात की हम दोनों की बातें काफी समय तक फेसबुक पर होती रही लेकिन मैंने जब उससे उसका नंबर लिया तो उसने मुझे अपना पर्सनल नंबर दिया और हमारी फोन पर बात होने लगी। जब हमारी बातें बढ़ने लगी तो हम दोनों एक दूसरे से फोन पर अश्लील बातें करने लगे थे और अश्लीलता की हदे पार हो चुकी थी। हम लोग कई बार एक दूसरे को फोन पर ही झाड दिया करते थे। पिछले हफ्ते की ही बात है मैं आपको बताता हूं हम लोगों की क्या बात हुई।

शबनम- साहिल मैंने तुम्हें कितनी बार कहा है तुम दिन में मुझे मत फोन किया करो लेकिन तुम्हें क्यों समझ में नहीं आता।

मैं- अरे शबनम अगर तुम्हें फोन कर भी लिया तो क्या गलत किया हम लोग बात नहीं करते। तुम्हारा भी मूड ना जाने कब बदल जाता है मुझे तो कुछ समझ ही नहीं आता कल रात को तो तुम मुझसे बड़े अच्छे से बात कर रही थी।

शबनम- तुम अभी फोन रखो मैं तुम्हें बाद में फोन करूंगी।

मैं- बहन चोद तुम्हारी भी चूत में ना जाने क्या हो जाता है। तुम्हारा जब मूड सही नहीं होता तो तुम बिल्कुल भी बात नहीं करते अब मुझे फोन मत करना।

मैने गुस्से मे फोन काट दिया लेकिन रात को शबनम ने मुझे दोबारा फोन किया।

शबनम- तुम मेरा फोन क्यों नहीं उठा रहे थे मैं तुम्हें कितनी देर से फोन कर रही हूं।

मैं- भला मैं तुमसे क्या बात करूं तुम तो बेवजह ही मुझ पर गुस्सा करती हो और तुम्हें ना जाने क्या चाहिए होता है।

शबनम- मुझे तुम्हारा लंड चाहिए क्या तुम मुझे अपना लंड दोगे।

मैं- तुम्हारी मां की चूत मुझे तुमसे बात ही नहीं करनी है।

शबनम- जानेमन क्यों दुखी होते हो मेरा मूड हो रहा है मुझे इतना मत तड़पाओ ना मैं तुम्हारे लिए तड़प रही हूं।

मैं- बहनचोद तुम्हें कुछ समझ ही नहीं आता जब तुम्हे अपनी चूत की खुजली को मिटाने होते हो तो तुम मुझे फोन कर देती हो और जब मेरा मन होता है तो तुम मुझे गोली दे देती हो।

शबनम- साहिल तुम गलत समझ रहे हो ऐसा कुछ नहीं है मैं तुम्हारे लिए तड़प रही हूं तुम ही बताओ मैं क्या करूं।

मैं- तो फिर तुम आज मेरे लिए क्या करने वाली हो।

शबनम- मैं तुम्हारे लिए सब कुछ करने को तैयार हूं तुम बताओ मुझे क्या करना है।

मैं- पहले तो आज तुम मुझे अपनी पूरी नंगी तस्वीर भेजो और तुम आज अपनी गांड में लंड को लोगी।

शबनम- हां मैं तुम्हें अभी अपनी नंगी तस्वीर भेजती हूं तुम मुझे कुछ समय दो। मैं तुम्हें 5 मिनट बाद अपनी तस्वीर भेजती हूं।

शबनम ने कुछ देर बाद मुझे अपनी नंगी तस्वीर भेजी उसका बदन गुलाबी है। उसके बड़े स्तन और उसकी योनि का रंग तो बड़ा ही लाजवाब है। उसकी योनि से उस वक्त पानी टपक रहा था उसने जब अपनी गांड की तस्वीर मुझे भेजी तो उसकी गांड देख कर मैं बहुत ज्यादा उत्तेजित हो गया था।

मैं- शबनम कुछ भी कहो तुम्हारे अंदर कुछ बात तो है तुम्हारा शरीर बड़ा ही लाजवाब है ऐसा लगता है कि जैसे किसी ने तुम्हें दूध से नहला दिया हो।

शबनम- साहिल में तो तुम्हारे लिए तड़पती हूं। जब तुम से मेरी बात नहीं होती तो मैं बहुत ज्यादा बेचैन हो जाती हूं। यह शरीर तुम्हारे लिए ही तो है चाहे तुम मुझे दूध से नहला दो या तुम मुझे अपने माल से नहला दो।

मैं- आज तो तुम्हें अपने माल से ही नहला दूंगा।

शबनम- तो फिर नहला दो ना कौन तुम्हें कह रहा है कि तुम मुझे इतना तड़पाओ जल्दी से मेरी इच्छा पूरी कर दो मैं तुम्हारे लिए तड़प रही हूं।

मैं- आज तो तुम बड़ी पटाखा लग रही थी, तुम्हारी गांड देखकर तो मैं बहुत ज्यादा मचलने लगा था मैंने घर आकर तुम्हारे नाम की मुठ भी मारी।

शबनम- तो फिर जल्दी से मेरी चूत में अपने लंड को डालो ना मैं तडप रही हूं जानेमन क्यों मुझे तड़पा रहे हो।

मैं- मैं भी तो तुम्हारे लिए बहुत तड़पता हूं, तुम्हारी इच्छा कैसे मैं इतना जल्दी पूरा कर सकता हूं थोड़ी देर तुम भी सब्र करो क्या तुम ही तड़प सकती हो।

शबनम- ठीक है मैं तुम्हारे लिए तड़प लेती हूं, तुम्हें जैसा अच्छा लगे।

मैं- चलो तुम्हें बहुत तड़पा लिया अब तुम मेरे लंड को अपने मुंह में ले लो।

शबनम- मैं नहीं ले रही मेरा मन नहीं है।

मैं- लगता है तुम्हारी मां की चूत में अपने लंड को डालना पड़ेगा तभी तुम अपने मुंह में लोगी।

शबनम- हां बाबा ले रही हूं मैं तो मजाक कर रही थी तुम तो गाली दिए बिना रह नहीं सकते हो।

मैं- तो फिर जल्दी चलो ना क्यों देरी कर रही हो मैंने अपने लंड पर तेल लगाया हुआ है।

शबनम- बस तुम्हारे लंड को ही तो मुंह में ले रही हूं मुझे तो बड़ा मजा आ रहा है, तुम्हारा लंड अपने मुंह में लेने में बड़ा मजा आता है कसम से तुम्हारे लंड की बात ही कुछ और है।

मैं- थोड़ा और अंदर लो ना तुम तो सिर्फ बाहर ही अपनी जीभ से चाट रही हो थोड़ा मुंह के अंदर ले लो ना।

शबनम- अब कितना अंदर लूं, मैंने पूरा गले तक तो ले ही लिया है।

मैं- हां अब तुमने पूरा मुंह तक ले लिया है मुझे बड़ा अच्छा लग रहा है ऐसे ही तुम सकिंग करते रहो।

शबनम- तुम तो मुझे कह रहे थे कि मैं तुम्हारी गांड में आज कुछ डालूंगा।

मैं- हां रुक जाओ आज तुम्हारी गांड में मै कुछ ना कुछ तो डालूंगा ही थोड़ी देर इंतजार करो तुम्हें पता चल जाएगा।

शबनम- मैंने अपनी चूत में केले को डाल लिया है और बड़ा मजा आ रहा है।

मैं- तुम उस केले को अपनी चूत के अंदर तक ले लो ना तभी तो तुम्हे और भी मजा आएगा।

शबनम- हां बस अपनी योनि के अंदर तक मैं तुम्हारे लंड को ले रही हूं। कसम से तुम्हारे लंड में तो कुछ अलग ही बात है ऐसा लंड मैंने आज तक कभी नहीं देखा।

मैं- शबनम तुमने आज तक किस-किस के लंड को देखा है?

शबनम- मैंने तो अपने मामू के लंड को बहुत बार अपने हाथों से हिलाया है और उन्हें खुश कर के रख दिया है। वह जब भी आते हैं तो मुझे कहते हैं शबनम मैं बहुत थका हुआ हूं मेरी थकान दूर करो ना। मैं उनके लंड को हिला कर के माल को गिरा देती हूं।

मैं- अच्छा तो तुम्हारे मामा तुम्हारे हुस्न के दीवाने हैं।

शबनम- हां मेरे मामू तो मेरे पीछे पागल है लेकिन मैंने उन्हें कभी भी अपनी चूत मारने नहीं दी, मैं सिर्फ अपने हाथो से और मुंह से ही उनके माल को गिरा देते हूं।

मैं- चलो तुम अपनी गांड में उंगली को डालो ना।

शबनम- थोड़ी देर रुक जाओ मैं बस अपनी गांड में तेल लगा लूं ताकि आसानी से उंगली अंदर घुस सके।

मैं- हां तुम अपनी गांड में उंगली डाल दो ताकि मुझे भी मज़ा आ जाए।

शबनम- हां बस उंगली को अपनी गांड में डाल दिया है तुम बिल्कुल सही कह रहे थे बहुत मजा आता है और मुझे बड़ा अच्छा लग रहा है। मैंने उंगली को पूरे अंदर तक ले लिया है।

मैं- मुझे तेजी से तुम्हारी गांड मारने दो बस मेरा भी माल गिरने वाला है।

शबनम- हां करो ना तुम्हें किसने मना किया है और तेजी से करते रहो।

मेरा माल जैसे ही गिरा तो मैंने फोन काट दिया। शबनम बड़ी चालु आइटम है वह सिर्फ फोन पर ही मेरे साथ सेक्स करती है वह असली में मुझे अपने हुस्न को छूने तक नहीं देती लेकिन मैं भी उसे जरूर चोद कर रहूंगा।

Tags: , , ,
error: