फोन पर गुटर गुं करने मे मजा आ गया

Hindi sex talk, online sex chat: ट्रेन से सफर करने के दौरान मेरी मुलाकात सुहानी के साथ हुई सुहानी और मेरी मुलाकात हुई तो हम दोनों के बीच अच्छी दोस्ती हो गई। सुहानी भी कॉलेज में ही पढ़ती थी वह दिल्ली से मुंबई का सफर कर रही थी लेकिन वह अपने किसी परिचित के घर पर कुछ दिन तक रुकने वाली थी उस बीच मैं भी उससे मिलने वाला था मुझे लगा था शायद सुहानी बहुत ही शर्मीले नेचर की है लेकिन वह बडे ही खुलकर बातें करती। कुछ दिन वह मुंबई में रही और फिर वह दिल्ली चली गई जब वह दिल्ली चली गई तो मुझे उसकी काफी याद आने लगी। मैं उससे बात करने के लिए तडपने लगा लेकिन मेरी उससे बात नहीं हो पाई थी क्योंकि वह मेरा फोन नहीं उठा रही थी मैंने उसे कई मैसेज किए लेकिन उसने मेरा फोन नहीं उठाया मैं उसके लिए तड़पने लगा था मुझे लगा था मैं जल्द ही सुहानी से बात कर लूंगा लेकिन अभी तक मेरी सुहानी से कोई भी बात नहीं हो पाई थी मैं चाहता था मैं उसे किसी भी प्रकार से बातें कर लू। एक दिन मैंने सुहानी को फोन किया तो उसने मेरे मैसेज का रिप्लाई किया और कहा कि मैं तुमसे शाम को बात करती हूं मुझे लगा शायद सुहानी कहीं बिजी है इसलिए मैंने उसके बाद उसे मैसेज नहीं किया। जब मैंने उसे रात के वक्त फोन किया तो हम दोनों की बातें हो रही थी उसने मुझे बताया उसके दादाजी की तबीयत खराब थी इसलिए वह फोन नहीं उठा पाई थी और घर में उनके काफी मेहमान भी आए हुए थे लेकिन अब दादाजी पूरी तरीके से ठीक है उनके घर से मेहमान भी जा चुके हैं अब वह मुझसे बातें कर सकती है। मैं बहुत खुश था मुझे भी लगने लगा अब मैं और सुहानी एक दूसरे से बातें करेंगे हम दोनों की फोन पर ज्यादा देर तक बात नहीं हुई लेकिन उसके बाद हम दोनों एक दूसरे से फोन पर बातें करने लगे। मुझे उससे बातें कर के अच्छा लगता हम दोनों को बातें करते हुए करीब एक महीना हो चुका था जब मैंने पहली बार सुहानी से उसका फिगर पूछा तो वह शर्माने लगी थी उसने फोन काट दिया था पर वह अब खुलकर बातें किया करती और हम दोनों एक दूसरे से बात करते तो अच्छा लगता।

मैंसुहानी कल रात को तुमने मेरा फोन उठाया ही नहीं मैंने कल रात को हस्तमैथुन किया उसके बाद मैं सो गया मुझे लगा कि तुम मुझसे बात करोगी लेकिन तुमने बात ही नहीं की और ना ही मेरा फोन उठाया था।

सुहानीमैंने तुम्हें मैसेज तो किया था कि मेरी तबीयत ठीक नहीं है और मैं अपने आपको स्वस्थ महसूस नहीं कर रही हूं इसलिए तुम्हारा फोन नहीं उठा पाई थी। अब मैंने तुम्हारा फोन उठा लिया है कहो तुम्हे क्या कहना है कल तुमने क्या मेरा नाम की मुठ मारी थी मैं तुमसे बात नहीं कर पाई उसके लिए मैं तुमसे सॉरी कहना चाहती हू।

मैंचलो अब यह बात छोड़ो मैं यह पूछना चाहता हूं कि आज तुमने क्या पहना है मैं जानना चाहता हूं कि तुमने क्या पहना है मैंने तुम्हें जो पैंटी पहनने के लिए बोला था क्या तुमने वह पहनी है। जो मैंने तुम्हें कुछ दिनों पहले भिजवाई थी मैं आज उसमें तुम्हारी तस्वीर देखना चाहता हूं कि तुम कैसी लगती हो जल्दी से तुम अपनी फोटो मुझे भेज दो मैं इंतजार कर रहा हूं। अब तुम अपनी फोटो भेजो और मैं अपने लंड को हिला कर तुम्हारी चूत मारना चाहता हूं।

सुहानीअगर ऐसी बात है तो मैं तुम्हे अभी अपनी फोटो भेज देती हूं वैसे मैंने तुम्हें कुछ दिनों पहले अपनी फोटो भेजी थी लेकिन तुमने मुझे बताया नहीं कि मैं उसमे कैसी लग रही थी।

मैंसुहानी तुम मुझे कपड़ों में कहां अच्छी लगती हो मैं तो तुम्हें नंगा देखना पसंद करता हूं या फिर तुम जब पैंटी ब्रा में होती हो तो मुझे बहुत अच्छी लगती हो।

सुहानीलगता है आज तुम कुछ ज्यादा ही शरारत के मूड में हो और तुम्हारे अंदर की आग ज्यादा ही जल रही है ऐसा लग रहा है जैसे कि तुम मेरी चूत मारने की आज पूरे मूड में हो अगर मैं तुम्हारे पास होते तो तुम मेरी चूत का भोसड़ा ही बना देते।

मैंहां सुहानी तुम बिल्कुल ठीक कह रही हो अगर तुम मेरे पास होती तो मैं तुम्हारी चूत का भोसड़ा ही बना देता और मुझे बहुत ही अच्छा लगता अगर तुम मेरे साथ अभी मेरे बिस्तर पर लेटी होती तो मैं तुम्हें आज जन्नत की सैर करवा देता वैसे अभी भी मैं तुम्हें जन्नत की सैर करवा सकता हूं क्योंकि मैं तुमसे दूर जरूर हूं लेकिन मुझे लग रहा है कि मैं तुम्हारी चूत की खुजली को फोन से भी मिटा सकता हूं।

सुहानीतुमने तो मेरे अंदर की आग को पूरी तरीके से जला दिया है और मुझे लग रहा है जैसे कि मेरी आग को तुम पूरी तरीके से बढा कर रख दोगे वैसे मेरी चूत मे अब खुजली होने लगी है और मैंने तुम्हारी दी हुई पैंटी पहनी हुई है उसको मैं फिलहाल उतार रही हूं क्योंकि मेरी चूत से पानी निकल रहा है और मुझे लग रहा है मेरी चूत के अंदर मुझे उंगली को घुसडेना पड़ेगा तब जाकर मेरी गर्मी शांत हो पाएगी।

मैंहां मैंने देख लिया है मैंने जो तुम्हें पैंटी दी थी तुमने वही पहनी हुई है उसमें तुम बड़ी कमाल की लग रही हो और मैं तुम्हें देखकर बहुत ही खुश हो रहा हूं ऐसा लग रहा है जैसे कि तुम मेरे पास ही बैठी हुई हो और मेरी गर्मी को तुम बढा रही हो। मैं तुमसे बहुत ज्यादा प्यार करता हूं और कसम से आज बड़ा मजा आ रहा है जिस प्रकार तुमसे मैं बातें कर रहा हूं तुमसे इस प्रकार की गरम बातें करने में मुझे बड़ा मजा आता है मैंने अपने लंड को बाहर निकाल लिया है क्योंकि मेरा लंड भी मेरे कच्छे को फाडते हुए बाहर की तरफ आने लगा था और मेरी गर्मी को बहुत ज्यादा बढ़ाने लगा था जिस से कि मैं बिल्कुल भी रह नहीं पा रहा था अब मैं उसे हिलाने लगा हूं। आज तुम मेरे लंड को चूसकर पूरी तरीके से पानी बाहर निकाल लो और मेरी गर्मी को तुम बढा कर रख दो मैं बहुत ही ज्यादा तड़प रहा हूं।

सुहानीमैंने तुम्हारे लंड को अपने मुंह में ले लिया है और उसे तुम्हारे लंड को अपने मुंह में लेकर बड़ा अच्छा लग रहा है और बहुत मजा भी आ रहा। जिसमें तरह से मैं अपने मुंह में लेकर तुम्हारे लंड को चूस रही हू उस से मुझे एक अलग ही प्रकार की गर्मी पैदा होने लगी है और ऐसा लग रहा है जैसे कि तुम्हारे लंड से पानी बाहर निकल आया है। मैं बहुत तड़पने लगी हू और बिल्कुल भी नहीं रह पा रही हू मेरी चूत से आज तुमने पूरे पानी को बाहर निकाल दिया है और जल्दी से तुम अपने लंड को मेरी चूत में डाल कर मुझे अपना बना लो मैं तुम्हारे लंड को चूत मे लेने के लिए बेताब हूं मैं बहुत ज्यादा पागल हो गई हूं।

मैंमैंने भी अपने लंड को तुम्हारी चूत में डाल दिया है तुम्हें मजा लेना होगा ऐसा लग रहा होगा जैसे कि तुम्हारी चूत के अंदर मेरा लंड पूरी तरीके से जा चुका है मेरा तो मन हो रहा है तुम्हारी चूत की जड़ तक अपने लंड को सटा दूंगा मैं तुम्हें ऐसे ही चोदू जिससे कि तुम्हारी चूत से खून बाहर निकल आए और तुम चिल्लाते हुए मुझे कहने लगो अब मुझे छोड़ दो मैं बहुत ज्यादा तड़प रही हूं।

सुहानीमैं ऐसा ही तो चाहती हूं कि कब तुम मुझे आकर चोदो और मेरी गर्मी को ऐसे ही बढ़ा दो मैं बहुत ज्यादा तड़प रही हूं आओ ना मेरे पास आ जाओ और मुझे बाहों में समा लो तुम मेरे पास आओगे और मेरी चूत की गर्मी को मिटाओगे मैं पूरी तरीके से पागल हो गई हूं। तुम्हारे बिना बिल्कुल भी रह नहीं पा रही हू जल्दी से तुम मेरी प्यास बुझा दो और मेरे अंदर की आग को तुम जब बढाओगे तो मुझे बहुत ही अच्छा लगेगा। मैं तुम्हारे लिए बहुत ज्यादा तड़प रही हूं अब मै बहुत पागल हो गई हूं।

मैंमै तो तुम्हें अच्छे से चोद रहा हूं अभी तुम्हारे पैरों को खोल कर तुमको मैं चोद रहा हूं कभी तुम्हारे पैरों को अपने कंधों पर रखने मे मुझे मजा आ रहा है लेकिन मुझे एहसास होने लगा है मेरा माल बाहर की तरफ आने वाला है और जल्दी ही मेरा माल बाहर निकल आएगा। मुझसे बिल्कुल भी रहा नहीं जा रहा है लो मैंने अपने माल को तुम्हारी चूत के अंदर गिरा दिया और आज बहुत ही मजा आ गया जिस प्रकार से तुमसे बातें हुई अब हम लोग कल इस बारे में बात करते हैं।

Tags: , , ,
error: