कब मेरे पास आओगे मेरे सनम

Hindi sex chat, hindi sex story:  मैं और मेरा दोस्त साथ में ही रहते है हम दोनों कॉलेज की पढ़ाई कर रहे  है हम दोनों के ही कॉलेज मे ग्रेजुएशन का आखरी वर्ष है। एक दिन मैं अपने दोस्त सुधीर के साथ बैठा हुआ था तो सुधीर को फोन पर बार-बार किसी का फोन आ रहा था। मैंने उससे कहा सुधीर तुम फोन क्यों नहीं उठा लेते तो वह कहने लगा कोई बात नहीं रोहन मैं बाद में फोन उठा लूंगा। मैंने उससे कहा क्या कोई परेशानी है जो तुम फोन नहीं उठा रहे हो। वह मुझे कहने लगा कि नहीं रोहन ऐसा तो कुछ भी नहीं है ऐसी कोई भी परेशानी की बात नहीं है लेकिन वह काफी ज्यादा घबराया हुआ था और ना जाने वह क्यों घबराया हुआ था। मैंने उसे जब इस बारे में पूछा तो उसने मुझे माधुरी भाभी के बारे में बताया वह कहने लगा एक भाभी है मैं और वह एक दूसरे को काफी समय से जानते हैं अब वह मुझे कहने लगी है कि तुम मुझसे शादी कर लो उनके पति का देंहात काफी समय पहले ही हो गया था इस वजह से मैं उनसे फोन पर बातें करने लगा हूं। मैंने उसे कहा कि तुम मुझे भाभी का नंबर दे दो मैं उनसे बात करता हूं आखिर क्या बात है तो मुझे सुधीर ने झट से नंबर दे दिया और मुझे सुधीर ने माधुरी भाभी का नंबर दे दिया था लेकिन मुझे नहीं पता था कि सुधीर तो इन सब चीजों से बाहर आ जाएगा लेकिन मै माधुरी भाभी के चक्कर मे फस जाऊंगा। जब पहली बार मैंने उनसे फोन पर बात की तो मुझे उनकी आवाज का ऐसा चस्का लगा कि मैं उनसे फोन पर बिना बात किए हुए रह नहीं पाता था मुझे नहीं पता था कि वह इतनी ज्यादा सेक्सी और सुंदर होगी कि जब वह मुझे अपनी तस्वीर भेजेंगी तो मैं बिल्कुल भी रह नहीं पाऊंगा। मैं उनसे फोन पर बातें करने लगा था मुझे उनसे बात करना अच्छा लगता वह भी मुझसे फोन पर अश्लील बातें करती लेकिन वह मुझसे मीलो दूर थी वह कोलकाता में रहती थी और मैं दिल्ली मे परंतु उसके बावजूद मैं उनसे हर रोज बात करता  सुधीर को मैंने कभी पता नहीं चलने दिया कि अब मैं उनसे बात कर रहा था।

मैं- अरे भाभी आज आपने मुझे दोपहर में ही फोन कर दिया क्या कोई जरूरी काम था?

माधुरी भाभी- नहीं कोई जरूरी काम नहीं था बस ऐसे ही तुमसे बात करने का मन हो रहा था तो सोचा तुमसे बात कर लूं क्या तुमसे बात करने के लिए मुझे अपॉइंटमेंट लेना पडेगा।

मै- ऐसा कुछ भी नहीं है आप तो बेवजह ही बात को कहां से कहां लेकर जा रही हैं सुनिए तो आज आपने क्या पहना हुआ है मुझे जानना है कि आज आपने क्या पहना है? आज आपसे बात कर के मुझे ऐसा लग रहा है जैसे कि मेरे लंड से पानी बाहर की तरफ को निकलने लगा है और मैं बहुत ही ज्यादा खुश हो रहा हूं पता नहीं आज क्यों आपसे मुझे अश्लील बातें करने का मन हो रहा है।

भाभी- अच्छा तो आज तुम्हें मुझसे सेक्सी बातें करने का मन है चलो मैं भी अपने कपड़े उतार देती हूं और तुमसे मैं बात करती हूं।

मैं- अरे नहीं भाभी ऐसा कुछ भी नहीं है तुम मुझे इतना मत तड़पाओ कहीं पता चला कि मेरे अंडकोषो से तुमने मेरे माल को ही बाहर की तरफ खींच लिया। आपके बदन के बारे में सोचकर ही मेरे लंड से मेरा पानी बाहर निकल आता है।

भाभी- चलो तो तुम अपने लंड के पानी को बाहर निकाल ही लो आज मैं तुम्हारा इंतजार कर रही हूं कैसे मैं तुम्हारे लंड से पानी को बाहर निकालती हूं।

मैं- मुझे तो बहुत ही अच्छा लग रहा है और मुझे ऐसा लग रहा है कि जैसे आप मेरे साथ ही लेटी हुई हूं। मैं आपकी गांड से अपने लंड को टकरा रहा हूं आपकी गांड भी तो कम बड़ी नहीं है ऐसा लग रहा है उसके अंदर दो दो लंड समा जाएंगे।

भाभी- अरे नहीं बाबा ऐसा कुछ भी नहीं है मैं तो बस तुम्हारे लंड को अपनी चूत में लेना चाहती हूं मैंने कल ही अपने लिए एक डिलडो मंगवाया था और उसे मैं अपनी चूत में लेना चाहती हूं ताकि मेरे अंदर की खुजली मिट सके और मुझे मजा आ सके बताओ क्या तुम मेरी खुजली मिटाओगे।

मैं- हां भाभी मैं आपकी खुजली को मिटा दूंगा और आपकी चूत के अंदर मैं अपने लंड को डाल रहा हूं बताओ आप अपनी चूत को खोल रही हो या मैं ही आपकी चूत के अंदर लंड घुसा दूं।

भाभी- इतनी भी क्या जल्दी है पहले मुझे तुम्हारे लंड को अपने मुंह में तो लेना दो और तुम्हारे लंड को जब तक अपने मुंह में नहीं लूंगी तब तक मजा कैसे आएगा। अब तुम ही बताओ मैं तो तुम्हारे लंड को अपने मुंह में लेने के लिए तड़प रही हूं चलो तुम अपने लंड को मेरे मुंह में डाल दो और मेरी गर्मी को और भी ज्यादा बढ़ा दो जिससे कि मैं तुम्हारे लंड को ऐसे ही सकिंग करती जाऊं और मुझे मजा आ जाए।

मैं- मैंने अपने लंड को तुम्हारे मुंह के अंदर डाल दिया है ऐसे ही चूसती रहो और मेरी गर्मी को शांत करती रहो। भाभी जब आप मेरे लंड को अपने मुंह में लेती हो तो मुझे बड़ा मजा आ जाता है और ऐसा लगता है बस आप मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर चूसती रहो और मेरी खुजली को मिटाती रहो। आप वाकई में बड़ी कमाल की हैं मुझे आपसे बात करना बहुत ही अच्छा लगता है जब भी मैं आपसे बात करता हूं तो ऐसा लगता है जैसे कि मैं जन्नत में पहुंच गया हूं आप की सुरीली आवाज सुनकर ही मेरे लंड से पानी बाहर की तरफ को निकाला जाता है।

भाभी- फिलहाल तो मुझे तुम्हारे लंड को चूसने में मजा आ रहा है तुम्हारा लंड बड़ा ही कमाल का है मुझे ऐसा लग रहा है जैसे तुम्हारे लंड को बस मैं चूसती ही रहूं। मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा है चलो अब तुम अपने वीर्य को मेरे मुंह में गिरा दो मैं तुम्हारे वीर्य को अपने अंदर ही ले लूंगी ताकि मेरे अंदर और भी ज्यादा गर्मी बढ़ सके।

मैं- भाभी मैंने अपने वीर्य को आपके मुंह के अंदर ही गिरा दिया अब तो आपको मजा आ गया होगा।

भाभी- हां मुझे तो बड़ा मजा आ रहा है। तुम मेरे स्तनों को चूसकर मेरे अंदर की खुजली को बढ़ा दो ताकि मेरे अंदर की खुजली बढ़ सके और मुझे मजा आ सके क्या तुम मेरी खुजली को मिटाओगे।

मैं- लो भाभी आपके स्तनों को भी चूस रहा हूं और मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा है जिस प्रकार से मैं आपके स्तनों को चूस रहा हूं मेरे अंदर आपने गर्मी पूरी तरीके से बढ़ा दी है। मेरे अंदर की आग इतनी ज्यादा बढ़ रही है कि मुझे लग रहा है मुझे आपकी चूत के अंदर जल्दी से अपने लंड को डालना पड़ेगा मैं अब रह नहीं पा रहा हूं आप अपने पैरों को खोल दीजिए ताकि मेरा लंड आपकी चूत के अंदर आसानी से जा सके और आप जो डिलडो लेकर आई हैं उसे भी आप अपनी चूत में डालते रहिए।

भाभी- लो मैंने तो डिलडो को अपनी चूत मे समा लिया है अब तुम मुझे बड़ी तेजी से धक्के दो ताकि मेरे अंदर की गर्मी भी बढ़ सके और तुम्हारे अंदर की आग भी बढ़ सके मुझे बड़ा मजा आ रहा है जिस प्रकार से तुम मुझे धक्के मार रहे हो।

मैं- भाभी आपकी चूत वाकई में कमाल की है और बहुत ही टाइट है मुझे आपको चोदने में बड़ा मज़ा आ रहा है मुझे ऐसा लग रहा है जैसे सच में आप मेरे साथ ही लेटी हुई है और मैं आपकी चूत के अंदर अपने लंड को डाल कर अपनी खुजली को मिटा रहा हूं आप वाकई में कमाल है आपका कोई भी जवाब नहीं है।

भाभी- अच्छा तो मैं इतनी कमाल की हू तो तुम यह बताओ कि तुम कब मेरी पास आ रहे हो मैं तुमसे मिलने के लिए तड़प रही हूं मुझे किसी का सहारा चाहिए।

मैं- भाभी फिलहाल तो मैं आपकी चूत के अंदर बाहर अपने लंड को कर रहा हूं और आपको चोदने में मुझे मजा आ रहा है वह एक अलग ही अनुभूति पैदा कर रहा है मुझे लग रहा है कि आपकी चूत के अंदर मैं अपने वीर्य को गिरा दू क्योंकि मैं ज्यादा देर तक अब रह नहीं पाऊंगा।

भाभी- तुम बिल्कुल ठीक कह रहे हो मुझे भी ऐसा ही महसूस हो रहा है कि मैं ज्यादा देर तक तुम्हारा साथ नहीं दे पाऊंगी क्योंकि मेरी चूत से बहुत ही ज्यादा लावा बाहर निकलने लगा है और मुझे भी महसूस होने लगा है कि मैं झडने वाली हूं चलो तुम भी जल्दी से अपने माल को मेरा मुंह के अंदर गिरा दो और मेरी गर्मी को फिलहाल तुम शांत कर दो।

मैं- भाभी मैंने आपके मुंह में अपने वीर्य को गिरा दिया है।

Tags: , , , ,
error: