कुंवारी भाभी से फोन पर बातचीत

Hindi sex talk, sex stories in hindi: मेरे फेसबुक पर ना जाने कितने फ्रेंड है। एक दिन मैने सोचा कि सब फ्रेंड में से कुछ चुनिंदा फ्रेंड को ही रखा जाए तो मैंने सब को हटाना शुरू किया अब तक मैं काफी फ्रेंड हटा चुका था लेकिन जब मेरी नजर कोमल भाभी पर पड़ी तो मैं पहले तो काफी देर तक फोटो को निहारता रहा। मुझे लगा कि मुझे उनसे बात करनी चाहिए मैंने उन्हें  फेसबुक मैसेंजर के माध्यम से मैसेज छोड़ दिया काफी दिनों तक उनका कोई मैसेज मुझे आया नहीं था लेकिन एक दिन में ऑफिस में बैठा हुआ था तो मेरे फोन में हल्की सी बीप की आवाज आई। मैंने जब फोन देखा तो उसमें कोमल भाभी का मैसेज था उन्होंने भी मेरे मैसेज का रिप्लाई कर दिया था शायद वह भी अपने पति से परेशान थी इसलिए वह मुझसे बात करने को  मान चुकी थी। मेरे लिए तो इससे बढ़कर कोई बात ही नहीं थी और मैं उनसे बात करने लगा। मैं हमसे फेसबुक मैसेंजर के माध्यम से ही बात कर रहा था और यह हमारी पहली ही बात थी। दोस्तों मैं आपको बताता हूं कि कैसे हम दोनों के बीच में बातें हुई और फेसबुक मैसेंजर कैसे हम दोनों का साथी बन गया।

मैं- कोमल जी मैंने आपको मैसेज किया था आपने उसका रिप्लाई किया मुझे बहुत अच्छा लगा।

भाभी- मैं शायद आपसे कभी मिला नहीं हूं आपने मुझे मैसेज किया था तो मैंने भी आपका रिप्लाई करना उचित समझा। जब मैंने आपको रिप्लाई किया तो आपका भी मैसेज मुझे आ गया।

मैं- वैसे आप बुरा ना माने तो मैं आपसे कुछ आपके निजी जिंदगी से जुड़े सवाल पूछ सकता हूं।

भाभी- हां क्यों नहीं आप पूछ लीजिए।

मैं- मैं यह जानना चाहता हूं कि आपके परिवार में कौन हैं आप मुझे अपने बारे में बता दे ताकि मैं भी आपको समझ सकू।

भाभी- क्यों नहीं मैं आपको अपने बारे में बताती हूं मेरे पति बैंक में मैनेजर हैं और मेरे सास ससुर घर में रहते है मेरी शादी को अभी 6 महीने ही हुए हैं।

मैं- भाभी क्या बात कर रही हैं आपकी शादी को सिर्फ अभी 6 महीने ही हुए हैं।

भाभी- हां मेरी शादी को अभी सिर्फ 6 महीने ही हुए हैं।

मैं- तभी तो कहूं आप इतनी सुंदर जो है लेकिन आप वाकई में बहुत सुंदर है आपकी तस्वीर देखकर मुझे ऐसा लगा था कि जैसे आप अनमैरिड हैं लेकिन जब मैंने आपकी तस्वीर आपके पति के साथ देखी तो मैं समझ गया कि आप शादीशुदा हैं।

भाभी- देखिए आप मुझे बहुत अच्छे लग रहे हैं और आप से बात करके मुझे एक अपनापन सा लग रहा है। क्या हम लोग फोन के माध्यम से बात कर सकते हैं?

मैं- क्यों नहीं भाभी मैं तो चाहता ही हूं कि आप मुझे फोन करें लेकिन आपको कोई परेशानी तो नहीं है।

भाभी- भला मुझे क्या परेशानी होगी। मैं अभी आपको फोन किया देती हूं।

कुछ ही समय बाद भाभी से फोन के माध्यम से बात होने लगी और उन्होंने मुझे अपने बारे में कुछ जानकारी दी।

मैं- भाभी आपसे बात करके बहुत अच्छा लग रहा है और आपकी आवाज भी बहुत अच्छी है।

भाभी- अच्छा तो मेरी आवाज इतनी अच्छी है।

मैं- आपकी आवाज वाकई में अच्छी है।

भाभी- आपने मुझे अपने बारे में कुछ नहीं बताया।

मैं- भाभी मेरे बारे में ऐसा कुछ है ही नहीं मैं तो एक कॉलेज में पढ़ने वाला स्टूडेंट हूं और यह मेरे बीएसई तृतीय वर्ष है।

भाभी- अच्छा तो यह आपका तृतीय वर्ष है?

मैं- हां भाभी वैसे आपकी भी तो कोई गर्लफ्रेंड होगी?

मैं- हां मेरी गर्लफ्रेंड तो है लेकिन कुछ समय से उससे मेरा रिलेशन कुछ ठीक नहीं चल रहा है इसलिए फिलहाल तो हम दोनों ने दूरी बना ली है। मुझे भी यही ठीक लग रहा है कि हम दोनों को एक दूसरे से दूर ही रहना चाहिए।

भाभी- चलिए कम से कम आप दोनों ने इस बात को लेकर अपनी सहमति बनाई मेरे साथ तो बिल्कुल इसके उलट है। मेरे पति और मेरे बीच में शादी के कुछ समय बाद ही झगड़े शुरू हो गए थे और हम दोनों के बीच काफी झगड़े होने लगे थे। जिस वजह से मेरे पति चाहते थे कि मैं अब उनसे अलग रहूं।

मैं- आप क्या बात कर रहे हैं अभी तो आपके शादी को कुछ समय ही हुआ है और अभी से आप लोगों के बीच झगडे शुरू हो गए।

भाभी- हां दरअसल हम दोनों एक दूसरे को अब तक नहीं समझ पाए हैं और हम दोनों के बीच बहुत झगडे होते हैं कई बार तो मैं इस बात से बहुत परेशान हो जाती हूं और अपने पति को भी कहती हूं हम लोगों ने बहुत गलत किया जो एक दूसरे से शादी कर ली।

मैं- क्या आपने उन्हें अब तक अपने दिल से स्वीकार नहीं किया है?

भाभी- नहीं हम लोगों के बीच में शादी की पहली रात भी प्यार नहीं हुआ था। शादी की रात मै बहुत ज्यादा खुश थी लेकिन जब मेरे पति सामने आए तो उन्होंने मेरे साथ कुछ नहीं किया और अब तक मैं सील पैक हूं।

मैं- भाभी क्या बात कर रहे हैं आपके पति ने अभी तक आपके साथ कुछ नहीं किया।

मैं- नहीं वह मेरे साथ कुछ कर ही नहीं पाए और मैं अब तक तड़प रही हूं। मुझे अपनी गलती का एहसास है कि मैंने क्यों शादी की मुझे शादी नहीं करनी चाहिए थी।

मैं- भाभी आपसे एक बात पूछूं?

भाभी- हां पूछिए ना।

मैं-  मै आपसे यह पूछना चाहता हूं कि क्या आप मुझे अपना समझ सकती हैं।

भाभी- आप कैसी बात कर रहे हैं यदि मैं आपको अपना नहीं समझती तो क्या अब तक आपसे बात कर पाती।

मैं- हां भाभी मुझे आपसे बात करके बहुत अच्छा लग रहा है और ऐसा लग रहा है कि जैसे आपसे बातें ही करता रहूं।

भाभी- क्या आप मेरी इच्छा पूरी कर सकते हैं?

मैं- भाभी क्या बात कर रहे हैं आपने तो मेरे मुंह की बात छेड़ दी और मैं आपकी इच्छा भी पूरी कर देता हूं।  भाभी आपने आज क्या पहना हुआ है?

भाभी- मैं तो फिलहाल अभी नाइटी में हूं मैंने पिंक कलर के नाइटी पहनी हुई है। मुझे बहुत अच्छा लग रहा है और मौसम भी बड़ा सुहावना है।

मैं- भाभी आपके स्तनों का क्या नंबर है।

भाभी- मेरे स्तनों का नंबर 34 बी है और कॉलेज में हमारे क्लास में पढ़ने वाले लड़के मुझे अक्सर छेडा करते थे। वह मेरी छाती का नंबर मुझसे पूछ लिया करते थे उन्होंने ही मेरे स्तनों को इतना बड़ा कर दिया था।

मैं- भाभी आपके साथ पढ़ने वाले लड़के आपके बदन को महसूस करते थे लेकिन आपने उन्हें अपनी सील नहीं तोड़ने दी यदि आप उन्हें अपनी सील तोड़ने के लिए कहती तो शायद आज आप कुवारी ना होती।

भाभी- हां तुम बिल्कुल सही कह रहे हो यदि मैंने उन्हें अपने बदन की गर्मी को महसूस करने दिया होता तो शायद आज ऐसा ना होता लेकिन अब तो बहुत देर हो चुकी है।

मैं- भाभी आपकी तस्वीर देखकर ही तो मैंने आपसे बात की थी आपकी फेसबुक पर जो मिनी स्कर्ट में फोटो थी उसे देखकर तो मुझे लगा था कि यदि आपसे बात हो जाए तो मेरी जिंदगी संवर जाए।

भाभी- अच्छा तो आपने ऐसा सोचा था तभी आपने मुझे मैसेज छोड़ दिया था लेकिन आपसे बात कर के अच्छा लग रहा है, मेरी चूत से पानी भी बाहर के लिए निकल आया है।

मैं- भाभी मेरी भी लंड से कुछ बाहर की तरफ निकलने लगा है यदि आप मेरे पास होती तो मैं आपकी सील भी तोड़ चुका होता।

भाभी- आप मेरी सील तोड दीजिए मैं इंतजार कर रही हूं कि कौन मेरी सील तोड़ेगा।

मैं- भाभी मैं आपकी सील तोड़ दूंगा लेकिन अभी आप अपनी योनि को फिलहाल सहलाते रहिए और उससे पानी बाहर निकाल दीजिए और मेरे लंड को अपने मुंह में ले लीजिए।

भाभी- आपके लंड को मैं अपने मुंह में लेती हूं वैसे अपने पति के लंड को मैं मुंह में लेती हूं लेकिन उनका लंड खड़ा ही नहीं हो पाता है मुझे लगता है कि वह नामर्द है।

मैं- आप बिल्कुल सही कह रही हैं यदि वह मर्द होते तो अब तक आपकी सील तोड़ चुके होते।

भाभी- आपके लंड को अपने मुंह में लेने में मजा आ रहा है और उसे चूसने का अलग ही आनंद है।

मैं- मैं तो आपकी चूत की कल्पना मात्र से ही अपने लंड को हिलाए जा रहा हूं और ऐसा लग रहा है जब मैं आपकी चूत मारूंगा तो कितना मजा आ जाएगा।

भाभी- मैं तुमसे अपनी चूत मरवाने जरूर आऊंगी।

उस दिन तो हमारी बात अधूरी रह गई लेकिन उसके कुछ दिनों बाद ही भाभी मुझसे मिलने आई। जब कोमल भाभी की चिकनी और कोमल योनि के अंदर मैंने अपने लंड पर तेल लगा कर डाला तो वह मेरी हो चुकी थी और मुझे इस बात का बडी खुशी थी मैं भाभी के कुवारेपन को खत्म कर पाया उन्होंने भी मेरा पूरा साथ दिया। हम लोग फोन के माध्यम से फोन सेक्स कर लिया करते हैं।

Tags: , , ,
error: