मेरी बहन की सेक्सी ननद

Desi sex chat, antarvasna मेरा नाम दीपक है मेरी पैदाइश अहमदाबाद में हुई उसके बाद मैं अपने पिताजी के साथ ही उनका काम संभालने लगा। कई बार मुझे इस वजह से डांट खानी पड़ती है सब लोग कहते हैं कि तुम बिल्कुल भी बदले नहीं हो तुम जैसे तुम पहले थे वैसे ही अब भी हो। मैं बाहर से बहुत शरीफ दिखता हूं लेकिन अंदर से बड़ा ही मादरचोद हूं मैं जब भी किसी ऐसी महिला को देखता हूं जो मेरे ख्वाबों में आने वाली है उसे मैं कभी नहीं छोड़ता। मेरी बहन की जब शादी हुई तो शादी के बाद मेरी बहन की ननद जिसका नाम ममता है, उसकी भी शादी को करीब 5 वर्ष हो चुके हैं वह अपने पति के साथ ही रहते हैं। मैंने उसकी नजरों को देखा तो मैं समझ गया कि यह लंड लेने की आदि है और यह मेरे लंड को जरूर अपनी चूत में ले लेगी लेकिन उसके पति ने ज्यादा दिन तक उसे मायके मे नहीं रहने दिया। मेरी ममता को चोदने की इच्छा अधूरी ही रह गई लेकिन मै ममता से फोन पर मैं बात करता था। जब मैंने फोन पर पहली बार उससे बात की तो हम दोनों के बीच में ज्यादा बात नहीं हुई बस फॉर्मेलिटी के तौर पर हम लोगों ने बातें की लेकिन धीरे-धीरे हम दोनों की बातें बढ़ने लगी और हम दोनों के बीच में वह सब बातें होने लगी थी जिसका मुझे इंतजार था। पिछले महीने की ही बात थी जब हम दोनों के बीच में पहली बार अश्लील बातें हुई थी और यह बात मुझे आप लोगों को बताने में बड़ा मजा आ रहा है क्योंकि आप लोग जब इस बात को सुनेंगे तो आपको थोड़ा बहुत हंसी भी आएगी और आपके लंड पर जोर भी पड़ेगा।

मैंने मैसेज करते हुए ममता से पूछा क्या तुम फ्री हो तो वह कहने लगी हां मैं फ्री हूं।

मैं- ममता मैं तुम्हें दोपहर में ही फोन कर रहा हूं तुम्हें कोई परेशानी तो नहीं है।

ममता- भला मुझे क्या परेशानी होगी मुझे तो तुमसे बात करना अच्छा लगता है और तुमसे बात करने में मुझे बड़ा मजा आता है।

मैं- लेकिन तुम्हें मुझसे बात करने में क्या मजा आता है क्या तुम्हें तुम्हारे पति के साथ में मजा नहीं आता।

ममता- यार हमेशा वही रोटी खाओगे तो क्या मजा आएगा कुछ नया भी होना चाहिए। तुम जितने शरीफ दिखते हो उतने मादरचोद हो लगता है तुमने अपनी बहन को भी चोदा होगा।

मैं- नहीं मैंने उसे चोदा तो नहीं है लेकिन मैंने उसे देखकर कई बार मुठ जरूर मारी है क्योंकि वह मुझे जब भी नंगी दिखती तो मैं उसे देखकर मुट्ठ मार लिया करता। जब वह बाथरूम में नहा रही होती थी तो मैं उसे देख लेता था।

ममता- अच्छा तो तुमने अपनी बहन के नाम की भी मुठ मारी है।

मैं- हां मैंने अपनी बहन के नाम की मुठ मारी है एक बार तो मैंने उसकी पैंटी में मुठ मार दी थी। जब उसने वहां पैंटी पहनी तो उसकी चूतड़ों पर मेरा सारा माल लग गया था जिससे कि वह बहुत गुस्से में आ गई थी लेकिन उसे पता ही नहीं चला कि वो क्या चीज थी उस वक्त हम लोग छोटी ही थे।

ममता- तुम तो बड़े मादरचोद हो।

मैं- हां यार मैं तो बड़ा मादरचोद हूं मैं तो अपनी मां को देखकर भी कई बार मुट्ठ मार लिया करता हूं। हमारे पड़ोस में रहने वाली एक भाभी की तो मैंने चूत से खून भी निकाल दिया था उस दिन वह बैठ भी नहीं पाई थी और मुझे फोन कर के उन्होंने परेशान किया।

ममता- अच्छा तो तुमने तुम्हारे पड़ोस की भाभियों को भी नहीं छोड़ा तुमने उनकी गांड भी मार कर रखी हुई है।

मैं- हां मैंने उन लोगों को भी नहीं छोड़ा है।

ममता- मैं नहाने जा रही हूं मेरे बदन से बड़ी बदबू आ रही है।

मैं- क्या मैं भी तुम्हारे साथ नहाने के लिए आ जाऊ।

ममता- हां चलो तुम्हारे साथ नहाने मे मजा आ जाएगा जब तुम मेरे साथ नहाओगे।

मैं-  मै तो तुम्हारी गांड के अंदर अपने लंड को डाल दूंगा।

ममता- अच्छा तो तुम मेरी गांड मारना चाहते हो।

मैं- हां मैं तुम्हारी गांड मारना चाहता हूं मुझे तुम्हारी गांड मारनी थी लेकिन तुम्हारे पति तुम्हें अपने साथ ले गए और तुम बच गई नहीं तो मैं तुम्हारी गांड तेल लगाकर मारता और तुम्हें मैं नहीं छोड़ता।

ममता- तुमने तो अपनी बहन को भी नहीं छोड़ा तो मैं भला तुम्हारे सामने कहा टिक पाऊंगी।

मैं- ममता यह सब छोड़ो तुम यह बताओ आज तुम क्या पहनने वाली हो?

ममता- मैं क्या पहनूंगी जो पहनते हैं वही पहनूंगी  मैं तो कपड़े ही पहनने वाली हूं।

मैं- तुम कौन से कपड़े पहनने वाली हो मै तुमसे यह नहीं पूछ रहा मैं यह पूछ रहा हूं कि तुम अंदर से क्या पहने वाली हो।

ममता- तुम्हें बड़ी बेचैनी है कि मैं अंदर से क्या पहनने वाली हूं।

मैं- हां मुझे क्यों नहीं होगी क्योंकि आज मैं तुम्हारे नाम की मुठ मारने वाला हूं और तुम्हारे मुंह पर अपने माल को गिराना चाहता हूं।

ममता- मैं तुम्हें नहीं बता रही।

मै- तुम मेरा मूड खराब करना चाहती हो।

ममता- मुझे तुम्हें नहीं बताना।

मैं- बताओ ना ममता क्यों तड़पा रही हो कसम से तुमसे बात करने में मजा आ रहा है और तुम्हारी चूत के बारे में सोचकर मैं खुश हो रहा हूं बताओ तो सही।

ममता- वैसे तो तुम्हें बताने का मन नहीं था लेकिन तुम इतना गिड़ागिडा रहे हो तो बता ही देती हूं। वो जो पोर्न मूवी में हीरोइन नहीं पहनती वही वाली पैंटी और ब्रा में पहनने वाली हूं मेरे पति कह रहे थे कि आज तुम वही पहनना रात को तुम्हें मैं चोदने वाला हूं।

मै- अच्छा तो तुम्हारे पति को भी यह सब मे मजा आता है।

ममता – उन्हे तो ना जाने क्या-क्या शौक है वह तो पता नहीं क्या-क्या उठाकर लाते रहते हैं। कभी वह मुझे घोड़ी बनाकर चोदते हैं कभी मेरे एक पैर को उठाकर मुझे चोदते हैं और कभी मेरी गांड में ही अपना लंड को डाल देते हैं ना जाने वह क्या क्या करते रहते हैं।

मैं- अच्छा तो तुम्हारे पति तुम्हारी चूत बड़े ही अच्छे से लेते हैं तुम्हें उन्होंने किसी प्रकार की कोई कमी नहीं होने दी।

ममता- हां यार मेरे पति मुझे कमी नहीं होने देते लेकिन मुझे तो बहुत दर्द होता है वह रुकते ही नहीं है पता नहीं कौन सी दवाई खा लेते हैं उसके बाद मेरा पूरा बदन टूट जाता है।

मैं- यह तो अच्छी बात है जो तुम्हारे पति तुम्हें चोदते हैं ऐसे पति मिल पाना बड़ा मुश्किल है।

ममता- लेकिन सिर्फ यही तो सब कुछ नहीं होता मुझे और भी कुछ चाहिए होता है। वह सिर्फ हमेशा मेरी चूत और मेरी गांड के पीछे ही पड़े रहते हैं मुझे वह अच्छे से जीने भी नहीं दे रहे हैं।

मैं- तुम्हें क्या अच्छा लगता है?

ममता- मुझे तो उनके लंड को चूसने में बड़ा मजा आता है लेकिन वह कभी मुझसे अपने लंड को चूसवाते ही नहीं है। वह कहते हैं मुझे तो तुम्हारी चूत मारनी है इस बात को लेकर कई बार हम दोनों के बीच में झगड़े भी हो जाते हैं लेकिन फिर भी मुझे ही मानना पडता है।

मैं- अच्छा तो तुमको लंड को चूसने में मजा आता है।

ममता- हां मुझे लंड को अपने मुंह में लेने में बड़ा मजा आता है लेकिन मेरे पति तो मुझे मजा ही नहीं लेने देते हैं।

मैं- तुम मेरे लंड को अपने मुंह में ले सकती हो मैं तुम्हें अभी अपने लंड की फोटो खींच कर भेजता हूं।

ममता- हां भेजो मैं इंतजार कर रही हूं, मैं बाथरूम में जा रही हूं और मैं वहां पर नंगी हो जाती हूं उसके बाद तुम्हारे लंड को अपने मुंह में ले लूंगी।

मैं- हां यार मैं तुम्हें अभी भेजता हूं बस कुछ देर इंतजार करो।

ममता- कुछ भी कहो तुम्हारे लंड में बात तो है कितनी बार भी देख लो मन ही नहीं भरता और वाकई में तुम्हारे लंड को चूसने में बड़ा मजा आता है।

मैं- तुम भी मुझे अपने गरम महकते बदन की फोटो खींच कर भेज दो मुझे बहुत अच्छा लग रहा है तुम मेरा कितना ध्यान रखती हो।

ममता- मैं तुम्हारा ध्यान नहीं रखती मैं तो अपनी इच्छाओं को पूरा कर रही हूं। मेरे पति ने जो डिलडो मुझे दिया था वही मैं अपने मुंह में ले रही हूं और तुम्हारे लंड की कल्पना मेरे मन में है मैंने उस डिलडो को अपने गले तक ले लिया है।

मैं- मैंने भी कुछ दिनो पहले नकली चूत मंगवाई थी मैं भी उससे ही चोद रहा हूं और तुम्हारी कल्पना कर रहा हूं।

ममता- हां यार बड़ा मजा आ रहा है ऐसे ही करने में बहुत आनंद आ रहा है।

मैं- मेरा तो माल गिर चुका है क्या तुम्हारा भी हो चुका है।

ममता- हां मेरा भी हो चुका है मैं अब नहा लेती हूं।

मैं- ठीक है तुम नहा लो बाय ममता।

ममता- ओके

Tags: , ,
error: