ऐसा माल उसे देखते ही खो गया

Antarvasna, live sex chat: मेरा नाम सागर है मैं दिल्ली का रहने वाला हूं एक बार मैं ट्रेन से सफर कर रहा था उस दिन ट्रेन से सफर करने के दौरान मेरे सामने वाली सीट पर एक भाभी बैठी हुई थी जो कि दिखने में बेहद ही खूबसूरत थी। पहले तो उनकी सुंदरता को मैं बहुत देर तक निहारता रहा फिर मेरा मन उनसे बात करने का हुआ लेकिन उनसे बात नहीं हो पाई थी काफी देर तक तो मैं उन्हें ऐसे ही देखता रहा और उनकी सुंदरता को मैं निहारता रहा। उनके गाल पर जो तिल था वह उनकी सुंदरता पर चार चांद लगा रहा था मुझे बहुत अच्छा लग रहा था जब मैं उनसे बात कर रहा था मेरे अंदर की आग बढ़ रही थी। मेरा मन हुआ कि मैं उन्हें देखकर मुट्ठ मारू मेरे दिमाग में उनकी तस्वीर छप चुकी थी मैं जब उस दिन बाथरूम में गया तो बाथरूम में जाकर मैंने उस दिन उनके नाम का हस्तमैथुन कर लिया जिससे कि मेरी गर्मी बाहर निकल चुकी थी। मुझे ऐसा लगा जैसे मैं काफी हल्का महसूस कर रहा हूं क्योंकि जब मैं उनको देख रहा था तो मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा था कि मेरा लंड जैसे मेरे माल को बाहर निकल रहा हो मुझे बहुत ही अच्छा महसूस हो रहा था। जब मैं उनसे बातें कर रहा था तो मेरी गर्मी को उन्होंने पूरी तरीके से बढ़ा दिया था मुझे महसूस होने लगा कि मैं बिल्कुल रह नहीं पाऊंगा कहीं ना कहीं वह भी अपने आपको नहीं रोक पा रही थी शायद यही वजह थी कि उन्होंने मेरे बगल में बैठना ठीक समझा। वह मेरे बगल में बैठी तो मैंने उनके दोनों स्तनों को दबाया लेकिन इससे ज्यादा मैं कुछ कर नहीं पाया क्योंकि उनके पति उस वक्त आ गए थे उनके पति भी उसी ट्रेन में सफर कर रहे थे लेकिन फिर भी मैं बहुत ज्यादा खुश था। मुझे उनका नंबर मिल चुका था अब मैं उनसे फोन पर बातें करने लगा था मैंने उनसे फोन पर काफी बातें की। जब दो दिन पहले मेरी उनसे बात हो रही थी तो हम दोनों पूरी तरीके से गर्म हो चुके थे मैं उनकी खुजली को मिटा देना चाहता था मेरे माल को भी मैं बाहर निकालना चाहता था।

मैंभाभी मैं कब से आपके फोन का इंतजार कर रहा था सोचा कि आपका फोन आएगा लेकिन आपका फोन आया ही नहीं था परंतु अब आपका फोन आ गया तो मैं बहुत ही खुश हूं मैं अभी बिस्तर के अंदर लेटा हुआ हूं। मैं अपने लंड को बाहर निकालकर उसे हिल रहा हूं क्या अभी आप घर पर ही हैं।

सुनीता भाभीनहीं मैं घर पर नहीं हूं मैं अभी अपने किसी परिचित के घर पर आई हुई हूं बस थोड़ी देर बाद मैं घर जाऊंगा तो तुमसे फोन पर बात करती हूं अभी मैं फोन रख देती हूं और तुमसे कुछ देर बाद बात करती हू।

मैंठीक है भाभी जी आप थोड़ी देर में फोन कीजिएगा मैं आपके फोन का इंतजार करूंगा।

उनका फोन मुझे काफी देर बाद आया और जब उनका फोन मुझे आया तो उससे पहले मैं दो बार हस्तमैथुन कर चुका था और मेरा लंड ढीला पड़ा हुआ था लेकिन जब उन्होंने मुझसे बात की तो उन्होंने मेरे लंड को एक ही झटके में खड़ा कर दिया और मुझे उनसे बात कर के बहुत अच्छा लग रहा था जब मैं उनसे बात करता तो मुझे बहुत ही खुशी होती।

भाभीअच्छा तो तुम अभी बिस्तर में लेटे हुए थे क्या तुमने अभी इस बीच में अपने लंड को हिला कर माल भी बाहर निकाल दिया। मैंने तुम्हें अपनी 2 दिन पहले नंगी तस्वीर भेजी थी उसे देखकर तो तुम अभी भी मुट्ठ मार रहे होंगे।

मैंहां भाभी आपकी उस तस्वीर को देख कर मेरा लंड बस तन कर खड़ा हो जाता है। आपने मुझे एक नंबर का मुठमार बना दिया है मुझे तो बस सिर्फ मुठ मारने में ही मजा आता है और ऐसा लगता है बस आपकी तस्वीर को देखता जाऊं और आपके नाम की मुठ मारता रहूं आप बहुत ही कमाल की हो। मुझे तो ऐसा लग रहा है जैसे कि आप मेरे पास आ गई हो और मैं आपकी चूतड़ों को अपनी तरफ कर के आपकी चूत मारनी शुरू कर दी हो। भाभी वैसे आप बहुत ही अच्छी है और बड़ी कमाल की है।

सुनीता भाभीदेखो सागर अब मुझे तुम चने के झाड़ पर मत चढ़ाओ तुम सीधे मुद्दे की बात करो अखिर तुम चाहते क्या हो तुम्हें मेरी चूत मारनी है मैंने वैसे कल ही अपनी चूत के बाल साफ किए थे। मेरे पति ने मुझे कल अच्छे से चोदा और मेरे अंदर की गर्मी को उन्होंने पूरी तरीके से बढा कर रख दिया था उन्होंने मेरी चूत से पानी बाहर निकाल दिया था मुझे बहुत ही अच्छा लगा जब वह मेरी चूत के अंदर बाहर अपने लंड को कर रहे थे उन्होंने जिस प्रकार से मेरी चूत के मजे लिए उससे मुझे बड़ा ही मजा आ गया था।

मैंअगर ऐसी बात है तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा है और ऐसा लग रहा है जैसे कि बस मैं अपने लंड को बाहर निकाल कर आपकी चूत में घुसा डालूंगा और आपकी चूत की गर्मी को बस मिटा दूं क्योंकि मेरा मन आज आपको बस चोदने का हो रहा है। भाभी वैसे आपके बड़े स्तनों के बीच में अगर मैं अपने लंड को रगडूंगा तो उस से जो गर्मी पैदा होगी उससे मेरा माल बाहर आ जाएगा। आपके बदन को छूने मात्र से ही मेरे अंदर की आग बढ़ जाती है और मुझे लगता है जैसे कि मेरी गर्मी को बस आप शांत कर देंगी आप बहुत ही कमाल की हैं। आप जिस प्रकार कि बातें करती हो उस से मेरे बदन को आप गर्म कर देती है उससे मुझे बहुत ही अच्छा लगता है भाभी।

भाभीलो मैंने तो अपनी चड्डी उतार ली है मैं अब अपनी चूत के अंदर अपनी उंगली को घुसाने लगी हू वैसे आज तुमने मेरी चूत की आग को पूरी तरीके से बढ़ा दिया है तुम्हारा लंड भी तो बहुत मोटा है। तुमने मुझे उसकी तस्वीर दिखाई थी तो मुझे लगा था तुम्हारा लंड मेरे पति के लंड जितना ही मोटा है अगर मैंने उसे चूत मे लिया तो तुम मेरे अंदर की गर्मी को पूरी तरीके से बढ़ा दोगे जैसे मेरे पति मुझे संतुष्ट किया करते हैं वैसे ही तुम मुझे संतुष्ट कर दोगे।

मैंभाभी आपसे बात कर के बहुत ही अच्छा लग रहा है अब मै अपने लंड को बड़े अच्छे से हिला रहा हूं मेरा मन हो रहा है कि अपने लंड पर मैं तेल की मालिश करूं और उसे बड़े ही अच्छे से चिकना बना दूं। मेरा लंड पूरी तरीके से गर्मी बाहर छोड़ने लगा है और आपकी चूत की गर्मी को भी मैं पूरी तरीके से बढा देता हूं वैसे आप बहुत ही कमाल की हैं और बड़ी लाजवाब भी हैं। आप जिस प्रकार की बातें मुझसे करती हैं उस से मेरे अंदर की गर्मी पूरी तरीके से बढ़ जाती है और ऐसा लगता है जैसे कि बस मैं आपसे बात करता ही रहूं।

भाभीलो मैंने अपनी चूत के अंदर तक उंगली डाल दी है।

मैंमुझे बहुत ही अच्छा लग रहा है मैंने अपने लंड को बहुत तेजी से हिलाना शुरू कर दिया है मेरा वीर्य बस थोड़ी देर बाद ही बाहर ना आ जाए अभी आप मेरे लंड को अपने मुंह में ले लो और उसे तब तक चूसते रहना जब तक कि मेरा माल बाहर ना आ जाए। आपने मुझे बताया था कि आप अपने पति के लंड को भी बहुत अच्छे से चूसती हो। वैसे ही मेरे लंड को भी चूसो ताकि मेरे अंदर की आग पूरी तरीके से बढ़ सके और मेरी गर्मी को तुम बढा कर अच्छे से उस से पानी बाहर निकाल सको।

भाभीमैने मुंह को खोल लिया है अब तुम अपने लंड को मेरे मुंह में डाल दो मैं तुम्हारे लंड को तब तक चूसती रहूंगी जब तक कि तुम्हारे लंड से पानी बाहर की तरफ ना आ जाए। मुझे अब बहुत अच्छा लग रहा है मैं तो झड़ चुकी हूं लेकिन तुम्हारे माल को भी मैं बाहर निकाल कर ही छोडूगी लो मैंने अपने मुंह को खोला हुआ है। तुम अपने लंड को मेरे मुंह में डाल दो।

मैंभाभी बड़ा ही मजा आ रहा है ऐसा लग रहा है आपके मुंह के अंदर अपनी पिचकारी मार दूं।

5 मिनट उनसे बात करने के बाद मेरा माल बाहर आ गया उसके बाद मैं भाभी के साथ करीब 2 घंटे तक फोन पर बात करता रहा फिर हम दोनों ही फोन पर बातें करते करते ना जाने कब सो गए कुछ पता ही नहीं चला।

Tags: , , ,
error: