चूत के हजार रंग

Online sex chat, sex stories in hindi फेसबुक पर नए नए दोस्त बनाने का शौक कभी-कभी आपको अच्छे लोगों से मिलवा भी देता है मेरे साथ भी ऐसा ही हुआ। बबीता शर्मा की प्रोफाइल में जब मैं देखने लगा तो मुझे बहुत सारी चीजें नई नई दिखाई देने लगी। बबीता शर्मा की बड़ी शानदार फोटो ने मेरे दिल पर जगह बना ली थी मैं चाहता था कि जल्द से जल्द मैं बबीता शर्मा से बात करूं लेकिन मेरा दिल उस वक्त नही माना। जब मैंने बबीता को अपनी प्रोफाइल से फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज दी मैंने कुछ दिनों पहले ही अपने नई फोटो खिंचवाई थी जिसमें कि मैं किसी हीरो से कम नहीं लग रहा था और शायद उस फोटो का ही असर था कि बबीता ने मेरे फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार कर ली। मुझे ऐसा लगा जैसे बबीता मेरी पत्नी बन गई हो क्योंकि मैंने कभी सोचा नहीं था कि उस टाइट माल और गदराए हुए बदन की लड़की से मैं कभी बात भी कर पाऊंगा। बबीता मेरी फेसबुक फ्रेंड मे से सबसे गजब की थी मेरे दोस्तों मुझसे जलने लगे थे और ना जाने क्या क्या कहने लगे थे। मै खुश था जो मैने फेसबुक पर अपनी फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी थी उसने वह स्वीकार कर ली थी शायद मुझे खुद पर यकीन ना था। मुझे तो सिर्फ बबीता से बात करनी थी मैं बबीता से बात करने लगा। जब पहली बार हम दोनों की बात हुई तो थोड़ा घबराहट सी होती लेकिन फिर हम दोनों की बात अच्छे से होने लगी और कुछ ही दिनों बाद हम दोनों की बातें बहुत ज्यादा बढ़ने लगी थी। बबीता मुझसे कई मीलो दूर आसाम में रहती थी कुछ ही दिनों पहले जब हम दोनों की बात हुई तो बबीता थोड़ा गुस्से में थी लेकिन उसे मैंने मना लिया था।

मैं- हेलो बबीता कैसे हो?

बबीता- देखो राजेश मुझे तुमसे कोई बात नहीं करनी।

मैं- आखिर तुम्हें मुझसे बात क्यों नहीं करनी।

बबीता- कह दिया ना मुझे तुमसे बात नहीं करनी है और अभी फोन रख दो नहीं तो मैं तुम्हें कुछ कह दूंगी।

मैं- मैं फोन नहीं रखने वाला।

बबीता- तुम्हें फोन तो रखना ही पड़ेगा नहीं तो तुम्हारी मां की चूत में तुम्हें घुसा दूंगी।

मैं- मै वहां से तो बाहर निकला हूं लेकिन अब मेरे पास भी लंबा सा हथियार है उसे मै तुम्हारी चूत में घुसाना चाहता हूं।

बबीता- देखो मुझे तुमसे बात ही नहीं करनी है और तुम अभी फोन रख दो।

मैं- मैं फोन नहीं रखने वाला हूं मैं तुमसे बात करता रहूंगा तुम्हें रखना है तो तुम रख दो।

बबीता- तुम समझते क्यों नहीं मुझे तुमसे जब बात ही नहीं करनी है तो तुम बेवजह मुझसे बात क्यों कर रहे हो।

मैं- देखो बबीता मैं तुमसे आखरी बार कह रहा हूं यदि तुम्हें मुझसे बात करनी है तो बात कर लो नहीं तो फोन काट दो। मैं भी इतना गुस्सा बर्दाश्त नहीं कर सकता यदि मुझे गुस्सा आ गया तो मैं कभी तुमसे बात नहीं करूंगा।

बबीता- अच्छा ठीक है यह सब छोड़ो लेकिन तुम यह बताओ कि तुमने मुझसे इतने दिनों से बात क्यों नहीं की।

मैं- मैं तुमसे क्यों बात करता तुम्हें मैंने कहा नहीं था कि मैं अपने काम के सिलसिले में बाहर जा रहा हूं मैं तुम्हें वहां से लौटने के बाद फोन करूंगा। अब मैं वहां से लौट आया हूं तो तुम्हें मैंने फोन किया।

बबीता- मुझे मालूम है तुमने मुझे कह दिया था लेकिन मैं तुम्हारे बिना रह नहीं पा रही थी इसीलिए तो तुमसे बात करना चाह रही थी। मैंने तुम्हें इतना फोन किया लेकिन तुमने मेरा फोन ही नहीं उठाया।

मैं- बबीता मुझे मालूम है तुमने मुझे कई फोन किए थे लेकिन मैं अपने काम को छोड़कर कैसे तुम्हारा फोन उठा सकता था। खैर यह सब बाते छोड़ दो तुम्हे आगे बात करनी है या नहीं।

बबीता- कहो ना मुझे तो तुमसे बात करनी है मैं तुम्हारे लिए कितनी तड़प रही हूं मेरा दिल ही जानता है।

मैं- मैं भी तुम्हारे लिए बहुत तड़प रहा हूं इतने दिनों से तुम्हारे बिना मैं कैसे रहा हूं मैं ही जानता हूं।

बबीता- जानू तुम्हें मालूम है मैंने तुम्हारी गैर हाजिरी में एक नई पैंटी ब्रा ली है मैं तुम्हें उसकी तस्वीर भेजती हूं मैं कैसी लग रही हूं।

मैं- जल्दी भेजो ना मैं इंतजार कर रहा हूं मैं भी अभी अपने कच्छे में लेटा हुआ हूं।

बबीता- बस अभी भेज रही हूं तुम बताना मैं कैसी लग रही हूं।

बबीता ने जो मुझे फोटो भेजी वह किसी मोरनी से कम नहीं लग रही थी। उसकी फूल वाली पैंटी ब्रा उसके बदन पर खूब जम रही थी ऐसा लग रहा था कि जैसा वह हुस्न से लबरेज कोई पटाखा हो। मैंने जब बबीता को कहा कि तुम इसमें बड़ी अच्छी लग रही हो तो वह फूली नहीं समा रही थी और बहुत ज्यादा खुश हो गई थी। मैं भी बहुत खुश था इतने समय बाद बबीता से कुछ रंगीन बातें जो हो रही थी नहीं तो अपने ऑफिस के काम से मेरी हालत ही खराब हो चुकी थी।

मैं- कसम से बबीता बड़ी झकास लग रही हो ऐसा लग रहा है जैसे कि अभी बादलों से उतरकर तुमने जमीन पर पैर रखा है।

बबीता- तुम भी इतनी बड़ी-बड़ी मत छोड़ो थोड़ा जमीन पर रहने दो और यह बताओ कि यह कैसी लग रही हैं।

मैं- अरे वाकई में बड़ी शानदार लग रही हो ऐसा लग रहा है अभी तुम्हारे पास आऊ और तुम्हारे बदन पर अपने वीर्य को गिरा दूं।

बबीता- तो फिर आ जाओ मैं इंतजार कर रही हूं इतने समय बात करते हुए हो चुका है लेकिन अब तब तुम मुझसे मिलने नहीं आई हो और मेरी तड़प तुम्हारे लिए कितनी बढ़ चुकी है तुम जानते हो।

मैं- मुझे सब मालूम है कि तुम मेरे लिए कितनी तड़पती हो लेकिन अभी वहां आना संभव नहीं है।

बबीता- आ जाओ ना जानेमन मैं तुम्हारा इंतजार कर रही हूं और तुम्हारी याद में ना जाने मैंने कितने ही लड़कों को रिजेक्ट कर दिया है।

मैं- कोई बात नहीं बाबू मैं जल्दी ही तुमसे मिलने आऊंगा और तुम्हें अपना बना लूंगा। जब तुम मिलोगी तो तुम्हें एहसास होगा कि मेरा लंड कितना तन कर खड़ा होता है जब तुम्हारी चूत में डालूंगा तो तुम खुश हो जाओगी।

बबीता- अच्छा तो तुम मेरी योनि के अंदर अपने लंड को डालोगे।

मैं- मै तुम्हारी योनि के अंदर अपने लंड को डाल दूंगा तुम्हें बड़ा मजा आएगा।

बबीता- तो फिर डाल दो ना मैं तो इंतजार कर ही रही हूं जल्दी से डालो।

मैं- ये लो बस डाल ही दिया तुम्हारी चूत बड़ी मस्त है और मुझे तुम्हारी चूत में डालने में बड़ा मजा आ रहा है तुम अपने दोनों पैरों को खोलो।

बबीता- लो खोल लिया जानेमन तुम्हारे लंड को अंदर लेकर कसम से मजा आ रहा है।

मै- ऐसा लग रहा है जैसे कि तुम्हारी टाइट चूत में लंड जाते ही सारी थकान दूर हो गई हो।

बबीता- आखिरकार इतने दिनों की थकान तो दूर हुई।

मैं- हां यार थकान तो बहुत दिनों की थी लेकिन तुमसे बात करने का मौका ना मिल सका इसलिए थकान और भी ज्यादा बढ़ती चली गई।

बबीता- यदि तुम मुझसे बात कर लेते तो तुम्हारी सारी थकान दूर हो जाती।

मैं- सुनो ना मैं तुम्हारे लिए बहुत तड़प रहा हूं जल्दी से मेरे पास आ जाओ और मेरे लंड के ऊपर बैठो।

बबीता- तुम मुझे चोद तो रहे हो ऐसे ही धक्के मारते रहो।

मैं- मुझे मालूम है मैं तुम्हें चोद रहा हूं लेकिन मेरा वीर्य गिरने वाला और तुम उसे चाटने के लिए आ जाओ।

बबीता- अपने वीर्य को गिरा दो मैं सारा अपने मुंह के अंदर ले लूंगी।

मै- तुम्हारी चूतडे आजकल कुछ ज्यादा ही बड़ी होने लगी है।

बबीता- क्यों नहीं होगी मे पूरी मेहनत जो कर रही हूं।

मैं- तुम ऐसा क्या कर रही हो जो तुम्हारी चूतडे इतनी बड़ी होती जा रही है।

बबीता- तुम्हें हर एक चीज पूछना तो जरूरी नहीं है तुम बस मुझे चोदते रहो और अपना काम कर के आराम से लेट जाओ।

मैं- हां तुम बिल्कुल ठीक कह रही हो मुझे तुम्हें ऐसे ही धक्के देते रहना पड़ेगा।

बबीता- कसम से मजा आ रहा है ऐसे ही चोदो जैसे कि किसी जन्नत मे पहुंच गई हूं।

मै- अभी तो तुम्हें मैं जन्नत की सैर करवा दूंगा बस कुछ देर और रुको।

बबीता- करवा दो ना मैं तो इंतजार कर ही रही हूं कि कब तुम मुझे जन्नत की सैर करवा दो मैं बहुत ही अच्छे से तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहती हूं।

मैं- बबीता पर एक बात तो है तुम्हारा बदन बड़ा लाजवाब है और तुम्हारी चूत मे बाल नहीं आते उससे तो मैं हमेशा प्रभावित रहता हूं।

बबीता- लो मेरा तो हो गया मैंने कपड़े से भी अपनी योनि को साफ कर लिया है तुम जल्दी से अपने माल को गिरा दो मैं इंतजार कर रही हूं।

मैं- मेरा भी कुछ देर बाद माल गिरने वाला है तुम उसे अंदर ही समा लेना।

बबीता- मै इंतजार कर रही हूं कब तुम्हारा माल गिरे और कब मैं उसे अपन मुंह मे समा लूं।

मैं- गिर गया तुम अंदर ले लो।

बबीता- ले लिया बाय अब मैं फोन रखती हूं मुझे कुछ काम है।

मैं- चलो ठीक है जाओ।

Tags: , , ,
error: