बात करके माल लंड के टोपे तक आ गया

Antarvasna, hindi sexy story: मैं जब कॉलेज में पढ़ता था उस वक्त मेरा नेचर काफी शर्मिला किस्म का था इसलिए मैं लड़कियों से कभी बात ही नहीं कर पाया लेकिन जब से मैं जॉब करने लगा तब से मैं लड़कियों से खुलकर बातें करने लगा। अब मेरे ऑफिस में कई ऐसी लड़कियां हैं जो कि मेरे ऊपर लाइन मारती हैं और मैंने उनमें से कईयों को चोद भी डाला है लेकिन मेरे दिल में अभी भी माया का ख्याल आता है तो उसके बारे में सोचने लगता हूं। मैं एक दिन अपने घर पर बैठा हुआ था तो ऐसे ही अपने फेसबुक अकाउंट को देख रहा था उस दिन मुझे माया का फेसबुक प्रोफाइल दिखा मैंने उसे तुरंत ही फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज दी। उसने मेरी फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट नहीं की थी लेकिन मैं इंतजार कर रहा था कि कब वह मेरी फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट करेगी और मैं उससे बात करूंगा लेकिन अभी तक उसने मेरी फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट नहीं की थी करीब 2 हफ्ते बाद जब उसने मेरी फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली तो मुझे उसने मैसेज किया। जब उसका मैसेज मुझे आया तो मेरी और माया की फेसबुक मैसेंजर के माध्यम से ही बात होने लगी यह हम दोनों की पहली बार हुई बात थी।

माया- क्या तुम सुधीर हो जो मेरे साथ कॉलेज में पढ़ा करते थे?

मैं- हां मैं सुधीर ही हूं और तुम्हारा फेसबुक अकाउंट देखा तो सोचा कि तुम्हें मैं फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज देता हूं इसलिए तुम्हें फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज दी माया तुम कैसी हो?

माया- मैं ठीक हूं सुधीर तुम मुझे अपना नंबर दे दो मैं तुमसे आज रात को बात करती हूं।

मैंने- माया को अपना मोबाइल नंबर दे दिया मुझे बिल्कुल भी उम्मीद नहीं थी कि माया का फोन मुझे रात के वक्त आ जाएगा। मैं अपने ऑफिस से लौटा ही था और मैं अपने रूम के अंदर खाना खाकर इंटर ही हुआ था कि तभी मेरे फोन की घंटी बजने लगी और जैसे ही मेरे फोन की घंटी बजी तो मैंने जब फोन देखा तो उसमें किसी अननोन नंबर से फोन आ रहा था मैंने तुरंत ही फोन उठा लिया अब मैं माया से बात करने लगा।

मैं- माया क्या यह तुम्हारा नंबर है?

माया- हां यह मेरा ही नंबर है लेकिन तुम तो पूरी तरीके से बदल चुकी हो तुम तो बिल्कुल भी शरमाते नहीं हो और मुझे तो लगा ही नहीं कि तुम सुधीर हो तुम पूरी तरीके से बदल चुके हो। यह बात छोड़ो तुम आजकल क्या कर रहे हो और क्या तुम्हारी किसी और से भी बात होती है?

मैं- माया समय के साथ बदलना पड़ता है और मेरे अंदर बदलाव तो आना ही था मुझे भी लगता था कि मैं बहुत ज्यादा शर्मिला किस्म का था इसलिए मैं आप सब लोगों से खुलकर बातें करने लगा हूं। मेरी फिलहाल तो किसी से बात नहीं होती बस तुम से ही आज मेरी बात हो रही है क्योंकि अब हमारा परिवार बेंगलुरु में सेटल हो चुका है इसलिए मेरी अब मेरी पुराने दोस्तों से बात नहीं हो पाती है लेकिन माया तुमसे फोन पर बात कर के अच्छा लग रहा है।

माया- अच्छा तो मुझे भी बहुत लग रहा है सुधीर तुमसे इतने समय बाद जो बात हो रही है तुम बहुत ही ज्यादा हैंडसम हो गए हो और मुझे तो लगता है कि तुम्हारी गर्लफ्रेंड जरूर होगी।

मैं- तुमसे क्या छुपाना मेरी गर्लफ्रेंड है लेकिन मेरा मेरी गर्लफ्रेंड के साथ बिल्कुल भी बात करने का मन नहीं होता क्योंकि उसके अक्सर मुझसे झगड़े होते रहते हैं और अब जल्द ही हम लोग ब्रेकअप करने वाले हैं।

माया- लेकिन ऐसा क्यों तुम अपनी गर्लफ्रेंड से क्यों ब्रेकअप करने जा रहे हो?

मैं- अब तुम्हे मैं क्या बताऊं माया मैं जब भी उसे छूने की कोशिश करता हूं तो वह भाग जाती है और कहती हैं कि हम लोगों यह शादी के बाद करेंगे तुम ही बताओ क्या यह सब ठीक है।

माया- नहीं सुधीर उसे ऐसा तो नहीं करना चाहिए तुम इतने हैंडसम हो और अगर मैं तुम्हारी गर्लफ्रेंड होती तो मैं तुम्हारे साथ सेक्स करने के लिए तैयार हो जाती।

मैं- अगर ऐसा है तो मैं तो तुम्हारे साथ कभी भी सेक्स करने के लिए तैयार हो जाऊंगा क्योंकि तुम बड़ी ही सुंदर हो और जब भी मैं तुम्हारे बारे में सोचता हूं मुझे बहुत ही अच्छा लगता है अगर मैं तुम्हें सच बताऊं तो तुम्हें बुरा तो नहीं लगेगा।

माया- नहीं मुझे बिल्कुल भी बुरा नहीं लगेगा तुम बताओ तो सही तुम क्या कहना चाहते हो मुझे भी तो पता चले तुम मेरे बारे में क्या सोचते हो।

मैं- माया तुम्हें पता है मैं तुम्हारे नाम से ना जाने कितनी बार मुट्ठ मार चुका हूं और तुम्हारे नाम की मुठ मारने में मुझे बड़ा ही मजा आता है। जब भी मैं तुम्हारे नाम की मुठ मारता हूं तो मुझे ऐसा लगता है जैसे तुम मेरे सामने खड़ी हो।

माया- अच्छा तो तुम मेरे नाम की मुठ मारते हो क्या मैं इतनी ज्यादा सुंदर दिखती हूं कि तुम मेरे नाम की मुठ मारा करते हो।

मैं- हां तुम बहुत ही ज्यादा सुंदर दिखती हो जब मैं तुम्हारे चेहरे की कल्पना अपने सामने करता हूं तो मेरा माल बाहर आ जाता है और ऐसा लगता है कि जैसे तुम मेरे लंड को चूस रही हो और मेरा लंड तुम्हारे मुंह के अंदर हो।

माया- चलो तो तुम्हारे लंड को अपने मुंह में ले लेती हूं और तुम अपने मोटे लंड को मेरे मुंह में डाल दो वैसे तुम्हारा लझड कितना मोटा है।

मैं- मेरा लंड 9 इंच मोटा है और मैंने अपने लंड को बाहर निकाल लिया है वह तुम्हारे मुंह के अंदर जाने के लिए बड़ा बेताब है जल्दी से तुम उसे अपने मुंह के अंदर ले लो और मुझे पूरे मजे दो मैं बहुत ही ज्यादा तड़प रहा हूं।

माया- लो तुम्हारे लंड को अपने मुंह में ले लिया है और उसे चूस कर बड़ा ही मजा आ रहा है ऐसा लग रहा है कि जैसे तुम्हारे मोटे लंड को बस में चूसती ही रहूं और तुम्हारी गर्मी को मैं शांत करती रहूं मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा है और बहुत ही ज्यादा मजा भी आ रहा है।

मैं- थोड़ा सा और अंदर ले लो मुझे तुम्हारी गले के अंदर अपने लंड को डालना है।

माया- मैंने तो अपने मुंह को खोला हुआ है और तुम्हारे लंड को मैं अपने गले के अंदर तक ले रही हूं मुझे बड़ा ही अच्छा लग रहा है जब तुम्हारा लंड मेरे गले के अंदर तक जा रहा है अब मेरी चूत से भी पानी बाहर निकलने लगा है। मेरी चूत भी तुम्हारे लंड को लेने के लिए तड़प रही है क्या तुम्हारा लंड मेरी चूत के लिए बेताब है।

मैं- मेरा लंड तो तुम्हारी चूत में जाने के लिए तड़प रहा है चलो तुम अपनी चूत को भी मेरे सामने कर दो और अपने कपड़ा को जल्दी से उतार दो मैं अपने कपड़े उतार कर बिस्तर पर लेट चुका हूं और अपने लंड को हिलाए जा रहा हूं मुझे तो बड़ा ही मजा आ रहा है और ऐसा लग रहा है जैसे तुम मेरे साथ मेरे बिस्तर पर ही लेटी हुई हो और मेरी गर्मी को और भी ज्यादा बढ़ा रही हो।

माया- मुझे बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा है और बहुत अच्छा भी लग रहा है मैं अपनी चूत के अंदर तुम्हारे लंड को ले रही हूं और तुम मेरी गर्मी को जल्दी से बुझा दो मेरी गर्मी बहुत ही ज्यादा बढ़ चुकी है और मुझे ऐसा लग रहा है जैसे कि तुम्हारा लंड मेरी चूत के अंदर घुस चुका है मुझे बड़ा दर्द हो रहा है मैंने अपनी दो उंगलियों को अपनी चूत में घुसा लिया है और तुम्हारा लंड भी साथ-साथ मेरी चूत के अंदर बाहर हो रहा है कसम से तुम्हारा लंड तो बड़ा ही मोटा और तगड़ा है।

मैं- माया तुम तो बड़ी कमाल की हो मुझे तो लगा था कि तुम बहुत ही सीधी सादी हो लेकिन तुम्हारी चूत में भी बहुत ज्यादा खुजली होती है और मेरा लंड तुम्हारी चूत को जिस प्रकार से फाड रहा है उस से मुझे और भी ज्यादा मजा आ रहा है। मुझे तो ऐसा लग रहा है जैसे कि बस तुम्हारी चूत के अंदर बाहर में अपने मोटे लंड को करता ही जाऊ लेकिन मैं ज्यादा देर तक तुम्हारी गर्मी को मे बर्दाश्त नहीं कर पाऊंगा क्योंकि मेरा वीर्य बाहर की तरफ निकलने वाला है और मैं बाथरूम में जा रहा हूं मैं बिस्तर खराब करना नहीं चाहता।

माया- तुमने तो मेरे अंदर कि खुजली को मिटा कर रख दिया है मैं भी कल तुम्हारे फोन का इंतजार करूंगी और जब तुम मुझे फोन करोगे तो मैं बिस्तर पर नंगी लेटी रहूंगी। मै कल तुम्हें अपनी नंगी तस्वीर भी भेजूंगी अभी मैं फोन रखती हूं क्योंकि मेरी चूत से ज्यादा पानी निकल रहा है और मुझे लग रहा है कि मुझे किसी के लंड को लेने ही पड़ेगा।

मैं- ठीक है माया कल तुम्हारे फोन का इंतजार करूंगा और तुम मुझे कल अपनी नंगी तस्वीर भी भेज देना अभी मैं फोन रखता हूं मेरा माल बाहर गिर रहा है चलो बाय।

Tags: , , ,
error: